लोकसभा चुनाव से पहले बसपा को जोड़नी होंगी कमजोर कड़ियां

यूपी विधानसभा चुनाव के बाद 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए बसपा के सामने कई बड़ी चुनौतियां हैं। जिनसे पार पाना काफी मुश्किल दिखाई दे रहा है। बसपा को लोकसभा चुनाव में उतरने से पहले अपनी कमजोर कड़ियों को दुरुस्त करने की जरूरत है।

अभी हाल में हुए विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा नुकसान बसपा को हुआ है। उसकी सीटों तो कम आयी ही साथ में कोर वोटर भी दरकता दिखाई दे रहा है जो आगे चलकर पार्टी के लिए चुनौती खड़ा कर सकता है। मायावती ने मुस्लिम, ब्राम्हण, और दलितों की सोशल इंजीनियरिंग का फारमूला विधानसभा चुनाव में अपनाया था जो नकार दिया गया। मुस्लिम वोट का खिसकना उनकी परेशानी को बढ़ा रहा है। क्योंकि मुस्लिम का पूरा वोट बैंक सपा के खाते में शिफ्ट हो गया। इससे भाजपा के मुकाबले में सपा का खड़ा होना साफ संकेत है। 2007 से बसपा का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है। 2014 के लोकसभा में बसपा को एक भी सीट नहीं मिली थी। 2017 में बसपा का प्रदर्शन बहुत खराब रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed