फाइलेरिया से ग्रसित मरीजों के बीच एमएमडीपी किट का किया गया वितरण

-हाईड्रोसील फाइलेरिया से पीड़ित मरीजों का होगा ऑपरेशन, मिलेगी बेहतर सुविधाएं
डी एन कुशवाहा

मोतिहारी पूर्वी चंपारण– जिले में फाइलेरिया उन्मूलन को लेकर सरकार एवं स्वास्थ्य विभाग जागरूक है। सिविल सर्जन ,पूर्वी चम्पारण डॉ अंजनी कुमार द्वारा जिले के सदर अस्पताल,सभी उपाधीक्षक अनुमंडलीय अस्पताल एवं प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को फाइलेरिया से ग्रसित मरीजों के बीच एमएमडीपी किट का वितरण करने का निर्देश दिया गया है। साथ ही हाइड्रोसील फाइलेरिया से पीड़ित मरीजों को चिह्नित कर उनका तय समय पर कैम्प लगाकर ऑपरेशन व बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने की बात कही गई है। ताकि हाइड्रोसील फाइलेरिया से पीड़ित मरीजों को ऑपरेशन की सुविधा से स्थाई निजात मिल सके। उन्होंने बताया कि गंभीर रूप से पीड़ित फाइलेरिया मरीजों को एमएमडीपी किट भी नि: शुल्क उपलब्ध करायी जाती है। वहीं जिले के विभिन्न प्रखंडों चकिया,मेहसी, केसरिया,कल्याणपुर, तेतरिया, ढाका में एमएमडीपी किट का वितरण शुरू किया गया है। जिले में लगभग 150 मरीजों के बीच रोग नियंत्रण और घरेलू प्रबंधन के लिए उपचार किट प्रदान किया गया है। इसमें टब, साबुन, पाउडर आदि होता है। दवा भी साथ में दी जाती है। उन्होंने बताया कि फाइलेरिया के रोगियों को अपने पांव का अधिक ख्याल रखना चाहिए। लोगों को फाइलेरिया के कारण व बचाव के प्रति सचेत किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि फाइलेरिया एक परजीवी रोग है। रोग का फैलाव मच्छर के काटने से फैलता है। इससे शरीर के किसी भी हिस्से में सूजन, हाइड्रोसील और हाथीपांव के रूप में प्रकट होता है।

  • शिविर आयोजित कर किया जाएगा ऑपरेशन :
    जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ शरत चन्द्र शर्मा ने बताया कि जिले के विभिन्न प्रखंडों चकिया,मेहसी, केसरिया,कल्याणपुर, तेतरिया, ढाका के स्वास्थ्य केंद्रों, अनुमंडलीय अस्पतालों के स्वास्थ्य कर्मियों के साथ एएनएम, आशा समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मियों के सहयोग से ऐसे मरीजों को चिह्नित कर सूची तैयार कराने एवं ऑपरेशन की सुविधा उपलब्ध करायी जाएगी।
    ऑपरेशन के दौरान सुरक्षा के हर मानकों का ख्याल रखा जाएगा। ताकि ऑपरेशन के दौरान मरीजों को किसी प्रकार की कोई असुविधा नहीं हो और सभी मरीज सुविधाजनक तरीके से ऑपरेशन करा सकें।
  • ऑपरेशन कराने वाले मरीजों को उपलब्ध कराई जाएगी समुचित स्वास्थ्य सुविधा :
    केयर इंडिया की डीटीएल स्मिता सिंह ने बताया, ऑपरेशन के दौरान मरीजों को समुचित स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी एवं मिलने वाली सभी सुविधाओं का विशेष ख्याल रखा जाएगा। ताकि सभी लाभार्थी का सुविधाजनक तरीके से सफल ऑपरेशन सुनिश्चित हो सके। वहीं, उन्होंने बताया, हाइड्रोसील फाइलेरिया से स्थाई निजात के लिए ऑपरेशन ही सबसे बेहतर और कारगर उपाय है।उन्होंने अपील की है कि फाइलेरिया के मरीज इस सुविधा का लाभ लेने के लिए आगे आएं और अपने नजदीकी स्वास्थ्य संस्थान में सुविधाजनक तरीके से ऑपरेशन कराएं।
  • फाइलेरिया क्या है ?
  • फाइलेरिया मच्छर के काटने से होने वाला एक संक्रामक रोग है।
  • किसी भी उम्र के व्यक्ति फाइलेरिया से संक्रमित हो सकता है।
  • फाइलेरिया के लक्षण हाथ और पैर में सूजन (हाथीपाँव) व हाइड्रोसील (अण्डकोष में सूजन) है।
  • किसी भी व्यक्ति को संक्रमण के पश्चात बीमारी होने में 05 से 15 वर्ष लग सकते हैं।
  • फाइलेरिया से बचाव के उपाय :
  • सोने के समय मच्छरदानी का निश्चित रूप से प्रयोग करें।
  • घर के आसपास गंदा पानी जमा नहीं होने दें।
  • अल्बेंडाजोल व डीईसी दवा का निश्चित रूप से सेवन करें।
  • साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें। मौके पर बीएचएम संजय कुमार, बीसीएम गजनाफर आलम, कैंप इंचार्ज अवधेश कुमार तथा केयर ब्लॉक कोऑर्डिनेटर अशोक राय सहित कई अन्य लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed