बिहार के सभी मुखियाजी को मिला नया काम, जानें…

राजीव रंजन की रिपोर्ट

PATNA: कोरोना काल में मुखियाजी को नया काम मिला है। सरकार ने कोरोना की तीसरी लहर से निपटने में मुखिया व वार्ड सदस्यों से भी सहयोग मांगा है। कोरोना पीड़ितों का हाल-चाल जानने के साथ ही मुखियाजी संक्रमितों को अस्पताल तक पहुंचाने में भी सहयोग करेंगे।

प्रखंड से लेकर जिला स्तर के अधिकारी भी मुखिया से फोन कर कोरोना संक्रमितों के बारे में जानकारी हासिल करेंगे। बता दें, पंचायती राज विभाग की उच्चस्तरीय बैठक में इस रणनीति पर मंथन हुआ। तय हुआ कि कोरोना से निपटने में जनप्रतिनिधियों की सहायता ली जाए। चूंकि गांवों में भी कोरोना का फैलाव हो रहा है और ग्रामीणों में इसके प्रति जागरूकता का अभाव है। बीमार होने के बावजूद लोग जांच कराने या उपचार कराने में आगे नहीं आते। स्थिति बिगड़ने पर ही लोग अस्पतालों की ओर रुख करते हैं। इसे देखते हुए विभाग ने तय किया कि ग्रामीण इलाकों में जागरूकता अभियान चलाया जाए।

अगर कोई व्यक्ति कोरोना से संक्रमित है और उसे अस्पताल मे भर्ती कराने की जरूरत है, तो उसे अस्पताल तक पहुंचाने में मुखिया व वार्ड सदस्य सरकार का सहयोग करेंगे। मुखिया चाहें तो अधिकारियों को इसकी सूचना भी दे सकते हैं। सरकार की तपफ से कहा गया है कि अगर इलाका बड़ा हो तो मुखिया गांव स्तर पर कमेटी बना लें। इसमें पांच महिलाओं और 10 पुरुषों को शामिल करें ताकि घरों में रहने वाली महिलाओं को कोरोना बीमारी के संबंध में जानकारी दी जा सके। बीमार व्यक्तियों का ब्योरा पंचायत स्तर पर बनाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed