महान क्रांतिकारी एवं समाजसेवी ज्योतिबा फुले की मनाई गई जयंती

महात्मा ज्योतिबा फुले ने देश दलित समाज को जागरूक किया: महेश प्रसाद लीमिका

डी एन कुशवाहा

दुर्गापुर प.बंगाल – ज्योतिबा फुले महान क्रांतिकारी, भारतीय विचारक, समाजसेवी, लेखक दार्शनिक एवं बहुत बुद्धिमान थे। उन्होंने देश से छुआछूत खत्म करने और समाज को सशक्त बनाने में अहम किरदार निभाई। उक्त बातें ठाकुर अनुकूलचंद्र जी के परम भक्त व अधर्यू तथा आकाशवाणी पटना के महान लोक गायक महेश प्रसाद लिम्का ने मुंशी प्रेमचंद्र सांस्कृतिक मंच दुर्गापुर द्वारा आयोजित महात्मा ज्योतिबा फुले की 131वीं पुण्यतिथि के अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए 28 नवंबर की देर संध्या में कही। साथ ही उन्होंने कहा कि उन्होंने जाति-प्रथा का विरोध करने और एकेश्‍वरवाद को अमल में लाने के लिए ‘प्रार्थना समाज’ की स्थापना की गई थी। जिसके प्रमुख गोविंद रानाडे और आरजी भंडारकर थे। उस समय महाराष्ट्र में जाति-प्रथा बड़े ही वीभत्स रूप में फैली हुई थी। उन्होंने स्त्रियों की शिक्षा को लेकर लोग उदासीन थे, ऐसे में ज्योतिबा फुले ने समाज को इन कुरीतियों से मुक्त करने के लिए बड़े पैमाने पर आंदोलन चलाए। उन्होंने महाराष्ट्र में सर्वप्रथम महिला शिक्षा तथा अछूतोद्धार का काम आरंभ किया था। उन्होंने पुणे में लड़कियों के लिए भारत की पहला विद्यालय खोला। लड़कियों और दलितों के लिए पहली पाठशाला खोलने का श्रेय ज्योतिबा को दिया जाता है। इस अवसर पर उनके विग्रह एवं तैल चित्र पर फूल की माला पहनाकर उन्हें नमन किया गया। तत्पश्चात मंच के सभापति तारकेश्वर पांडे साहित्य अन्य पदाधिकारियों एवं गणमान्य लोगों ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए महात्मा ज्योतिबा फुले की जीवनी और आदर्श पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर आकाशवाणी के महान लोक गायक महेश प्रसाद लीमिका दादा ने महात्मा ज्योतिबा फुले के जीवनी पर आधारित एक से बढ़कर एक भजन गाकर उपस्थित लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *