मगध यूनिवर्सिटी के VC के ठिकानों पर स्पेशल विजिलेंस का छापा, करोड़ों की काली कमाई का खुलासा

राजीव रंजन की रिपोर्ट

मगध विश्वविद्यालय के कुलपति (वीसी) राजेंद्र प्रसाद के ठिकानों पर स्पेशल विजलेंस यूनिट की छापेमारी में बड़ा खुलासा हुआ है. स्पेशल विजिलेंस यूनिट की तीन टीमों ने बुधवार को उनके पैतृक गांव गोरखपुर और बोधगया स्थित कार्यालय व सरकारी आवास पर एक साथ छापेमारी की. छापेमारी के दौरान कुलपति राजेंद्र प्रसाद के खिलाफ 30 करोड़ रुपये से अधिक सरकारी संपत्ति के गबन और अनियमितता का मामला उजागर हुआ है. उनके गोरखपुर स्थित आवास पर 70 लाख नकद के अलावा एक करोड़ रुपए की अचल संपत्ति का पता चला है. साथ ही यहां से पांच लाख की विदेशी मुद्रा भी जब्त की गई है.

छापेमारी में यह भी खुलासा हुआ कि मगध विश्वविद्यालय में केवल 47 गार्ड सुरक्षा के लिहाज से कार्यरत हैं. लेकिन 86 गार्ड के नाम पर भुगतान किया जा रहा था. इसके अलावा हर महीने कुलपति द्वारा कई तरह की आर्थिक अनियमितताएं और गड़बड़ियां की जा रही थीं. स्पेशल बिजनेस यूनिट की टीम ने इससे संबंधित साक्ष्य (सबूत) और कागजात जब्त किये हैं. टीम में शामिल डीएसपी स्तर के अधिकारी लव कुमार गोरखपुर और रंजन कुमार के नेतृत्व में गया में छापेमारी की कार्रवाई की गई.

दरअसल राजेंद्र प्रसाद मगध विश्वविद्यालय, बोधगया के कुलपति के अलावा वीर कुंवर सिंह यूनिवर्सिटी, आरा के भी प्रभारी कुलपति रहे हैं. स्पेशल बिजनेस यूनिट की टीम ने छापेमारी में पाया कि उन्होंने कुलपति के पद का दुरुपयोग और साजिश करते हुए विश्वविद्यालय के नाम पर कई ऐसी चीजों की खरीदी की जिसका उपयोग विश्वविद्यालय के हित में नहीं किया जा सकता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed