प्रमंडलीय आयुक्त मिहिर कुमार सिंह ने आज जिलाधिकारी कार्यालय कक्ष में जिले में लंबित नीलाम पत्र वाद का समीक्षा किया। उन्होंने इसकी नियमित तौर पर समीक्षा करने का निर्देश जिलाधिकारी प्रणव कुमार को दिया। लंबित रहने के कारणों की विस्तृत समीक्षा के बाद कई बिंदुओं पर महत्वपूर्ण निर्देश प्रमंडलीय आयुक्त के द्वारा दिए गए।

राजीव रंजन की रिपोर्ट

बकायादारों के विरुद्ध नोटिस का तामिला कराने के साथ-साथ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश उनके द्वारा दिया गया। अपर समाहर्ता सहित विभिन्न नीलाम पत्र पदाधिकारियों के द्वारा लंबित वादों के निष्पादन के दिशा में ठोस कार्रवाई नहीं करने पर सख्त नाराजगी प्रकट की गई। बड़े बकायेदारों विशेषकर एक लाख से अधिक के बकायदारों के विरुद्ध सघन अभियान चलाते हुए राशि वसूली की दिशा में प्रभावी कार्रवाई करने का निर्देश दिया ।साथ ही ऐसे लोगों के विरुद्ध विधि सम्मत सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया गया। निर्देश दिया कि प्रत्येक माह में बड़े बकायेदारों विशेषकर एक लाख से ऊपर वाले बकायेदारों को चिन्हित करते हुए तत्काल कार्रवाई की जाए। ऐसे बकायेदारों की प्रत्येक माह समीक्षा की जाए।उनका एक्सेल शीट में सूची बनाते हुए अधोहस्ताक्षरी को भी उपलब्ध कराई जाए एवं समाहरणालय के पोर्टल पर भी अपलोड किया जाए।साथ ही कृत कार्रवाई से संबंधित प्रतिवेदन भी अधोहस्ताक्षरी को उपलब्ध कराई जाए। प्रत्येक नीलाम पत्र पदाधिकारी को प्रपत्र-10 को सर्कुलेट करवाना सुनिश्चित करें।प्रपत्र 9 एवं 10 का मिलान हर हाल में कराना सुनिश्चित करें।

सभी नीलाम पत्र अधिकारियों के माध्यम से सप्ताह वार वादों का संचालन कराते हुए नोटिस निर्गत करने ,सुनवाई करने एवं वसूली सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया। बैठक में वरीय पदाधिकारियों को निर्देशित किया गया कि सभी अनुमंडल पदाधिकारी , भूमि उप समाहर्ता एवं अन्य जिला स्तरीय नीलाम पत्र पदाधिकारी, अंचलाधिकारी प्रखंड विकास पदाधिकारियों को संबंधित बैंकों से समन्वय स्थापित करते हुए लंबित नीलाम पत्र वाद के निष्पादन के विषय में अविलंब ठोस कार्रवाई करना सुनिश्चित करें।
अपर समाहर्ता राजस्व के पास कुल वादों की संख्या 4851 है जिसमें 4436 को नोटिस दिया गया।ढाई करोड़ की वसूली की गई। अभी भी लंबित मामले 4645।जबकि अपर समाहर्ता आपदा के यहां लंबित कुल 4393 मामलों में 4384 मामले लंबित हैं। जबकि अनुमंडल पदाधिकारी पूर्वी द्वारा 40 मामलों का निष्पादन किया गया।

समीक्षा में पाया गया कि विभिन्न नीलाम पत्र अधिकारियों के द्वारा निष्पादित मामलों की संख्या अत्यंत कम है।इस पर असंतोष प्रकट किया गया। निर्देशित किया गया कि नियमित रूप से नीलाम पत्र वाद से सम्बंधित न्यायालय का संचालन कर सुनवाई सुनिश्चित कराएं और वादों का निष्पादन सुनिश्चित कराएं। बैठक में जिलाधिकारी सहायक समाहर्ता एडीएम आपदा एडीएम राजस्व जिला नीलाम पत्र पदाधिकारी तथा अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed