शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि एवं कौशल विकास क्षेत्रों में विकास पर सेमिनार सह वेबीनार का आयोजन।

राजीव रंजन की रिपोर्ट

सरोज सेवा संस्थान बघनोचा के चतुर्थ वार्षिक महोत्सव के अवसर पर एक सेमिनार सह वेबीनार का आयोजन किया गया जिसमें देश भर से विभिन्न क्षेत्रों में ख्याति प्राप्त लोगों ने भाग लिया और विभिन्न विषयों की जानकारी दी।
कार्यक्रम की शुरुआत में साक्षी सिंह और राजा बाबू ने संस्थान के बारे में परिचय देकर अतिथियों का स्वागत किया और तत्पश्चात मधुबनी पेंटिंग युक्त अंग वस्त्र और मेमेन्टो देकर लेफ्टिनेंट कर्नल मनमोहन ठाकुर और रामचन्द्र पंडित ने सभी अतिथियों का स्वागत किया।
खुशबू, अंशु, साक्षी, रुना और विजया लक्ष्मी ने स्वागत गान से सभी का दिल जीत लिया।
गोविन्द ने रामधारी सिंह दिनकर की कविता ” जब नाश मनुज पर छाता है पहले विवेक मर जाता है………. की प्रस्तुति से सब का मन मोह लिया।
पिछले डेढ़ साल में कोरोना की वजह से कक्षाएं तो नहीं चली पर लेफ्टिनेंट कर्नल मनमोहन ठाकुर के निर्देशन में आन लाइन प्रशिक्षण के जरिए देश के सभी हिस्सों से बच्चे संस्थान से जूड़ते चले गए और अंग्रेजी भाषा में बात करने में दक्षता हासिल की। अंग्रेजी में वाद विवाद के जरिए एक प्रस्तुति दी गई जिसकी बहुत सराहना हुई। कर्नल ठाकुर ने अपने स्वागत भाषण में संस्थान के क्रियाकलापों की जानकारी दी और कहा कि संस्थान का यह प्रयास है कि ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा और स्वास्थ्य के प्रति लोगों में जागरूकता जितनी बढेगी उतनी ही जल्दी समाज में बदलाव नजर आने लगेगा। महिलाओं को अब हर क्षेत्र में भागीदारी मिल रही है तो उन्हे भी शिक्षा के प्रति जागरुक होने की जरूरत है।
विंग कमांडर पुष्पा ठाकुर, उप प्राचार्य सैनिक स्कूल चितौडगढ ने वेबीनार के माध्यम से बच्चो को सैनिक स्कूल में पढाई के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि अब लडकियों को भी सेना के तीनों अंगों में भर्ती के लिए अवसर मिल रहे हैं जिसका लाभ सबको उठाना चाहिए। सैनिक स्कूल और मिलिट्री स्कूल में पढाई कर के बच्चे आसानी से रक्षा सेवा में आ सकते हैं।
डाॅ देवेन्द्र प्रसाद सिंह, निभागाध्यक्ष ,पूसा विश्वविधालय ने कृषि क्षेत्र में आधुनिक तकनीकी के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि मिट्ठी की जांच कर फसल लगाने से पैदावार अच्छी हो सकती है और किसान कम जमीन मे ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं। मशरूम की खेती के बारे में उन्होंने विस्तार से बताया।
डाॅ फानिश चन्द्र, योग गुरु, ब्रह्म कुमारी विश्वविद्यालय मुजफ्फरपुर ने योग के बारे में विस्तार से बताया और कहा कि अपने स्वास्थ्य की देखभाल के लिए योग का अभ्यास प्रति दिन करना चाहिए।
डाॅ प्रोफेसर राजीव र॔जन ठाकुर, निदेशक, दिल्ली स्कुल आफ बिजिनेस ने युवा वर्ग को करियर के चुनाव के दौरान जिन बातों का ध्यान रखना चाहिए की विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि देश में अवसर की कमी नहीं है। आवश्यकता इस बात की है कि छात्र एवं छात्राएँ अपनी काबिलियत को परखे और फिर अपनी योग्यता के मुताबिक रोजगार या नौकरी का चुनाव करें। जिस कार्य में ज्यादा मन लगे उसी से संबंधित रोजगार या नौकरी का चुनाव करें जिससे आगे चलकर अच्छी सफलता मिलेगी।
मुख्य अतिथि के रूप में ब्रिगेडियर रंजीव सन्याल, उपमहानिदेशक एनसीसी बिहार-झारखंड, पटना मुख्यालय ने अपने संबोधन में कहा कि ग्रामीण स्तर पर सरोज सेवा संस्थान बघनोचा का प्रयास बहुत सराहनीय रहा है। जिस तरह से युवा वर्ग एवं हर उम्र के लोगों के लिए तरह तरह के जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है इसका असर यहाँ दिखाई दे रहा है। सरकारी योजनाओं को भली भांति समझ कर उनका लाभ उठाने की जरूरत है। शिक्षा हीं एक ऐसा माध्यम है जिससे समाज की तस्वीर को बदला जा सकता है। हर परिवार को शिक्षा के प्रति जागरुक होने की आवश्यकता पर उनहोंने बल दिया। ग्रामीण स्तर पर तकनीकी का इस्तेमाल देखकर वे अचंभित हुए और बहुत ही प्रसन्नता व्यक्त की।
कर्नल बाॅबी जसरोटिया, सेना मेडल, निदेशक भर्ती कार्यालय मुजफ्फरपुर ने अपने संबोधन में कहा कि हर परिवार का कम से कम एक सदस्य सेना में भर्ती होने चाहिए। इसके लिए कम उम्र से ही प्रयास करते रहना चाहिए। सेना में आने के लिए देश सेवा की भावना होनी चाहिए। अनुशासित जिंदगी जीने के लिए इच्छुक युवा वर्ग के लिए भारतीय सेना सबसे बेहतरीन विभाग है। शारीरिक परिश्रम और पढाई के बल पर अभ्यर्थी बिना किसी रुकावट के सेना में भर्ती हो सकता है। आन लाइन जानकारी सेना के वेबसाइट पर उपलब्ध है जिसका लाभ उन्हे उठाना चाहिए।
कर्नल ए के वशिष्ठ, प्रशासनिक अधिकारी, सेना मुख्यालय मुजफ्फरपुर ने अपने संबोधन में कहा कि एनसीसी कि मुजफ्फरपुर, वैशाली, मोतिहारी, दरभ॔गा, समस्तीपुर, मधुबनी, छपरा, सिवान, बेतिया, सीतामढी, शिवहर आदि जिले के सेवारत सैनिक एव सेवानिवृत्त सैनिकों की सेवा में उनका मुख्यालय हमेशा तत्पर रहता है। किसी भी समय सैनिक एवं उनके परिवार के सदस्य मुजफ्फरपुर मुख्यालय में पहुंचकर अपनी समस्या का समाधान करा सकते हैं। उन्होंने सरोज सेवा संस्थान बघनोचा के प्रयास की सराहना की।
कार्यक्रम में बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर एक लघु नाटिका प्रस्तुत की गई जिसमें लडकियों को उच्च शिक्षा के प्रति प्ररेणाभरी बातें की गई। गोविंद ने तालिबानी शासन के ऊपर एक शोध पेपर प्रस्तुत किया जिसमें महिलाओं पर हो रहे अत्याचार को उजागर किया।
साक्षी सिंह और राजा बाबू ने कार्यक्रम का संचालन किया।
कैप्टन शामली सिंह ने लडकियों को सेना में आने के लिए प्रेरित किया और कहा कि अब एन डी ए में भी लडकियों को पुरा अवसर मिलेगा जिसकी तैयारी बढ़ चढकर करने की जरूरत है। प्रोफेसर वीरमणि राय ने अपनी कविता से सब का मन मोह लिया।
कार्यक्रम के अन्त में अनाथ बच्चों को साइकिल देकर उच्च शिक्षा के लिए प्रेरित किया गया। खुशबू कुमारी अब साईकिल से नौवीं कक्षा और दशवी कक्षा महनार बालिका उच्च विद्यालय से पढ सकेगी। उपस्थित सभी बच्चों को पुस्तक और कलम देकर कर्नल मनमोहन ठाकुर ने पढाई के लिए प्रेरित किया।
कार्यक्रम के अन्त में प्रवीण कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन किया। अनाथ बच्चे को साइकिल देकर उच्च शिक्षा के लिए प्रेरित किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में रामचन्द्र पंडित, रघुनाथ राय, उमाकान्त झा, कमलेष, साक्षी सिंह, राजा बाबू, विजय लक्ष्मी, आकाश, विवेकानंद, प्रवीण कुमार पंडित, करन राय, करन पासवान, उर्मिला, रितिश मंडल, ननकी, खुशबू, रुनु देवी, शैली देवी, अंशु,अंकित,आकाश, पुणे से शालिनी दुबे, कोलकाता से रौशन कुमार, पटना से शिवानी आदि की भूमिका अति सराहनीय रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed