अफसरों की गलती से नीतीश कुमार को करना पड़ा एक घंटे इंतजार, सीएम ने कर दिया अपना मनपसंद काम

राजीव रंजन की रिपोर्ट

बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ शनिवार को अजीब स्थिति का सामना करना पड़ा। राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविन्‍द को दिल्‍ली के लिए रवाना होने से पहले मुख्‍यमंत्री उन्‍हें विदाई देने के लिए पटना एयरपोर्ट पहुंचे थेबिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को शनिवार को रोचक स्थिति का सामना करना पड़ा। राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविन्‍द को दिल्‍ली के लिए रवाना होने से पहले मुख्‍यमंत्री उन्‍हें विदाई देने के लिए पटना एयरपोर्ट पहुंचे थे। इस बीच राष्‍ट्रपति के कार्यक्रम में थोड़ा फेरबदल हो गया। नतीजा हुआ कि मुख्‍यमंत्री को एयरपोर्ट पर करीब एक घंटे तक इंतजार करना पड़ा। उन्‍होंने राष्‍ट्रपति के आने तक एयरपोर्ट पर ही ठहरने का फैसला किया और इस दौरान उन्‍होंने एयरपोर्ट पर चल रहे विकास कार्यों का जायजा लिया। मुख्‍यमंत्री ने एयरपोर्ट परिसर में पौधारोपण भी किया। एयरपोर्ट के अधिकारियों ने उन्‍हें वहां चल रही गतिविधि‍यों की जानकारी दी
अचानक बदला राष्‍ट्र‍पति का कार्यक्रम दरअसल, राष्‍ट्रपति के विमान को पटना एयरपोर्ट से करीब पौने 12 बजे ही उड़ान भरनी थी। उनको विदाई देने के लिए मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार लगभग 11.35 बजे ही एयरपोर्ट पहुंच गए। इस बीच राष्‍ट्रपति का कार्यक्रम बदल गया और पटना से उनकी रवानगी का समय करीब एक घंटे आगे बढ़ा दिया गया। इसकी जानकारी शायद सीएम का कार्यक्रम निर्धारित करने वालों को समय रहते नहीं हो सकी थी। बहरहाल, सीएम ने एयरपोर्ट पर ठहरकर राष्‍ट्रपति का इंतजार किया। उन्‍होंने राष्‍ट्रपति के पहुंचते ही गर्मजोशी से उनकी अगवानी की। राष्‍ट्रपति के विमान में सवार होने के बाद नीतीश कुमार एयरपोर्ट से लौट गए।
हरियाली को बढ़ावा देना मुख्‍यमंत्री का पसंदीदा काम
मुख्‍यमंत्री हरियाली को बढ़ावा देने के लिए हमेशा तत्‍पर रहते हैं। पेड़-पौधों और हरियाली से उनका लगाव जगजाहिर है। यही वजह है कि राज्‍य में उनकी सरकार बनने के बाद वन क्षेत्र के साथ ही बाग-बगीचों और पेड़ों की संख्‍या में उल्‍लेखनीय इजाफा हुआ है। मुख्‍यमंत्री के सपने को आगे बढ़ाने के लिए ही राज्‍य में जल-जीवन-हरियाली मिशन शुरू किया गया है, जिसका मकसद पर्यावरण संतुलन को बढ़ावा देना है। मुख्‍यमंत्री हर खास मौके पर पौधारोपण करने और पौधे उपहार में देने की वकालत करते हैं और खुद भी ऐसा ही करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed