इश्कबाजी का चक्कर चलाना सुगौली के आईटी सहायक ओम प्रकाश गुप्ता को पड़ा महंगा, पीड़ित महिलाओं ने झाड़ू, चप्पल-जूते से की पिटाई

डी एन कुशवाहा

सुगौली पूर्वी चंपारण- स्थानीय प्रखंड के आईटी सहायक ओम प्रकाश गुप्ता को इसका नशा तब टूटा जब छेड़खानी से पीड़ित महिलाओं ने गुरुवार को उनके ऊपर झाड़ू एवं चप्पल-जूते की बरसात करने लगी‌। ओम प्रकाश गुप्ता पर महिला विकास मित्रों ने अश्लील हरकत करने और असंसदीय भाषा का इस्तेमाल करने का आरोप लगाते हुए कार्यालय कक्ष में की जमकर पिटाई कर दी। पिटाई से बचने के लिए ओम प्रकाश गुप्ता जहां-तहां भागते रहे और महिलाएं खड़े-खड़े कर उनकी सेवा करती रहीं।
वहीं ओम प्रकाश गुप्ता की पिटाई से अंचल कार्यालय में कुछ देर के लिए अफरा तफरी मच गया। इस बाबत महिला विकास मित्रों ने आईटी सहायक पर फोन पर प्यार जताने और अश्लील भाषा का इस्तेमाल करने की बात कही। जिसका ऑडियो भी वायरल हुआ है। पिटाई करने के बाद महिला विकास मित्रों ने सुगौली थानाध्यक्ष को लिखित आवेदन देकर जाति सूचक अपशब्द बोलने और अश्लील हरकत करने का आरोप लगाया है। सुगौली थानाध्यक्ष को प्राथमिकी दर्ज करने हेतु दिये गये हस्ताक्षर युक्त आवेदन सौंपते हुए महिला विकास मित्रों ने कहा है कि पंचायत के विकास कार्यों से जुड़े मामलों सहित आय, जाति और आवास प्रमाण पत्रों के लिए हम लोगों को आरटीपीएस कार्यालय आना जाना पड़ता है। यहां आने के बाद आईटी सहायक ओमप्रकाश गुप्ता के द्वारा हम लोगों के साथ हमेशा अश्लील हरकत किया जाता है। साथ ही हम लोगों के कार्य संपादन में जानबूझ कर देरी किया जाता है। ज्ञात हो कि
आईटी सहायक के इस हरकत से आतुर होकर विकास मित्रों ने कार्यालय कक्ष से बाहर निकलते ही आईटी सहायक के साथ जमकर मारपीट किया। विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उक्त घटना के बाद सुगौली अंचवाधिकारी धर्मेन्द्र प्रसाद गुप्ता ने बीडीओ के साथ संयुक्त प्रतिवेदन डीएम को भेजकर आईटी सहायक ओमप्रकाश गुप्ता को हटाने की मांग की है।
विदित हो कि ओम प्रकाश गुप्ता सुगौली थाना क्षेत्र के परसौना गांव के रहने वाले हैं। और वे विगत 1 साल से सुगौली में पोस्टेड हैं। इसके पूर्व हुए सुगौली में काम कर चुके हैं। सूत्रों ने यह भी बताया कि वह शादीशुदा और बाल बच्चे दार आदमी हैं। फिर भी उनके ऊपर प्यार का भूत सवार है। किसी भी महिला को बुरी नजर से देखने का खामियाजा आज ओम प्रकाश गुप्ता को भुगतना पड़ा। ऐसे पदाधिकारी यदि उस पोस्ट पर रहे तो महिलाओं का अपना काम कराना बड़ा कष्ट दायक साबित होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed