सिरफिरे साधू के खौफ से दहशत में पूरा गांव, 9 लोगों की हत्या के प्रण से मचा हड़कंप

राजीव रंजन की रिपोर्ट

  पश्चिम चंपारण जिले के बगहा के लक्ष्मीपुर गांव में एक साधु का खौफ है. एक महिला की धारदार हथियार से गला काट कर हत्या के बाद फरार हुआ आरोपी साधू मोती लाल यादव गांववालों के लिए मुसीबत बन गया है. इस सनकी साधू के दहशत से ग्रामीण रात में सो नहीं पा रहे हैं. मोती लाल यादव पूरे दिन गन्ने के खेतों में छिपा रहता है लेकिन शाम होते ही वो गांव की तरफ आ जाता है. इस दौरान जो भी उसे दिखता है वो उससे चिल्ला-चिल्ला कर कहता है कि अभी उसे नौ और लोगों की हत्या करनी है. इसको लेकर ग्रामीणों में काफी दहशत है. वो लाठी, डंडे और भला लेकर रातजगा कर पहरा दे रहे हैं.

हत्या के आरोपी साधू की दहशत इतनी है कि ग्रामीण शाम ढलने से पहले खेतों से गांव की तरफ आ जा रहे हैं. महिलाओं ने डर के मारे खेत की तरफ जाना बंद कर दिया है. ग्रामीणों का कहना है कि आरोपी साधू मोती लाल यादव पहले भी कई वारदातों को अंजाम दे चुका है इसलिए लोगों को काफी भय हो गया है. वो पड़ोस के गांव के लोगों से लक्ष्मीपुर गांव में कई दफा संदेशा भी भिजवा चुका है.मिली जानकारी के मुताबिक मोती लाल यादव लक्ष्मीपुर गांव के ही निवासी बेचू यादव की पत्नी तारा देवी (40) से एकतरफा प्यार करता था. तारा के पति को जब यह बात पता चली तो उसने मोती लाल को कड़ी चेतावनी दी. इससे नाराज होकर आरोपी मोती लाल ने 23 सितंबर को तारा की गला काटकर हत्या कर दी. मृतक महिला के दो बेटे और तीन बेटियां हैं. इन सभी की उम्र 14 साल से कम है. हत्या के दिन तारा की दो बेटियां उसके साथ थीं. वासना में अंधे मोती लाल यादव ने तारा के साथ यौन संबंध बनाने की इच्छा जाहिर की लेकिन उसने मना कर दिया. तब उसने तारा की उसकी बेटियों के सामने धारदार हथियार से गला काट डाला.
बताया जाता है कि वर्ष 2008 में इसी गांव की एक घास काट रही थी, मोती लाल यादव ने उसके साथ जबरदस्ती (रेप) करने का प्रयास किया. पीड़िता ने शोर मचाया तो खेत में काम कर रहे महिला के ससुर सुखदेव दास दौड़े हुए आए और उसे बचाया. इससे आगबबूला होकर आरोपी मोती लाल यादव ने सुखदेव दास का नाक काट लिया. इस मामले में साधू मोती लाल यादव को एक साल की कारावास हुई थी.तारा देवी की हत्या के बाद फरार चल रहे सिरफिरे साधू मोती लाल को गिरफ्तार करने के लिए दो-दो थानों की पुलिस टीम अभियान चला रही है. लेकिन वो पुलिस को चकमा देकर गांववालों के बीच खौफ पैदा कर रहा है. नौ लोगों की हत्या का अल्टीमेटम देने के बाद पुलिस ग्रामीणों के साथ उसकी गिरफ्तारी की रणनीति तैयार कर रही है.
बगहा के एसडीपीओ कैलाश प्रसाद ने बताया कि आरोपी मोती लाल यादव ने दियारा में शरण ले रखा है. वो कभी गन्ना के खेतों में, तो कभी नदी में कूद जा रहा है. पुलिस उसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार प्रयास कर रही है. गांव में पुलिसबल को गश्त करते रहने का निर्देश दिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed