हिंदी दिवस पर विशेष

सरकारी विद्यालयों में भी अब हिंदी की हालत खस्ता है– प्राईवेट स्कूल तो इससे तलाक ले लिया है: विजय अमित

डी एन कुशवाहा

मोतिहारी पूर्वी चंपारण– हिन्दी भारत की राष्ट्र भाषा है! बहुत गर्व की बात है! लेकिन सच्चाई तो यह है कि– यह भाषा अब पिछड़ा,गंवार,मज़दूर और अविकसित लोगों की पहचान बन गई है। उक्त बातें हिंदी दिवस के शुभ अवसर पर प्रेस वार्ता के दौरान 14 सितंबर 2021 को शिक्षाविद व अरेराज निवासी विजय अमित ने कही। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकारी विद्यालयों में भी अब हिंदी की हालत खस्ता है– प्राईवेट स्कूल तो इससे तलाक ले लिया है! उन्होंने कहा कि हॉलीवुड की या साऊथ की डब फिल्मों में देहाती इलाकों में लोगों के मनोरंजन के लिए ये धडल्ले से इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए ज़िम्मेदार सारे लोग हैं! किसी एक को दोषी ठहराया नहीं जा सकता है !! श्री अमित ने कहा कि अजीब संयोग है कि मेरा ये विचार भी अंग्रेजी टाईटल वाले फेसबुक और व्हाट्सएप या यूट्यूब अथवा टि्वटर पर लिखा जा रहा है जो अभी तक पूर्ण रूप से भारत की भाषा हिन्दी में अपने अस्तित्व को तलाश रहा है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed