विधायक सुनील मणि तिवारी ने पत्रकार मनीष हत्या कांड का सीबीआई जाँच कराने एवं अनुसंधान कर्ता को बदलने का किया मांग

डी एन कुशवाहा

अरेराज पूर्वी चंपारण– गोविंदगंज के क्षेत्रीय विधायक सुनील मणि तिवारी ने अपने पत्रांक 84/21 दिनांक 08/09/2021 द्वारा पत्र लिखकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से सुदर्शन न्यूज चैनल पूर्वी चंपारण के पत्रकार मनीष कुमार सिंह का गत 7 अगस्त को अपहरण कर सुनियोजित तरीके एक साजिश के तहत की गई निर्मम हत्या का दर्ज हरसिद्धि थाना कांड संख्या 320/21 दिनांक 8/8/2021 का सीबीआई जांच कराकर एवं स्पीडी ट्रायल कराकर हत्यारे को सजा दिलाने की मांग की है।
विधायक श्री तिवारी ने अपने पत्र के माध्यम से कहा है कि अरेराज दर्शन एवं चम्पारण दर्शन न्यूज के संपादक संजय कुमार सिंह के एकलौते पुत्र की हत्या होने के बाद अनुसंधान कर्ता की लापरवाही के चलते अनुसंधान से हटाकर पुलिस निरीक्षक अरेराज/पुलिस उपाधीक्षक अरेराज से अनुसंधान कराने, परिजनों को हथियार का लाइसेंस दिलाने एवं सुरक्षा मुहैया कराने का अनुरोध किया है। जिसकी प्रतिलिपि केन्द्रीय गृह मंत्री भारत सरकार नई दिल्ली एवं केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री भारत सरकार नई दिल्ली को भी भेजकर कार्रवाई करने का अनुरोध किया है।
गौरतलब हो कि यूं तो मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है। लेकिन स्वतंत्र भारत में धरातल पर उस चौथे स्तंभ की अहमियत नहीं दी जा रही है। यदि अहमियत दी जाती तो आज आए दिन पत्रकारों के साथ दुर्व्यवहार व पत्रकारों की हत्या नहीं की जाती। अपराधी किसी घटना को अंजाम देने के पहले सौ बार सोचते। लेकिन आज हत्यारे निर्भीक रूप से घूम रहे हैं और उनके पास तक पुलिस नहीं पहुंच रही है। वही किसी मंत्री या राजनेता के परिवार में ऐसी घटना घटी रहती तो अब तक क्या से क्या हो गया रहता। सच्ची पत्रकारिता करने वाले युवा पत्रकार मनीष कुमार सिंह अपने घर व माता-पिता के इकलौते चिराग थे। जिसे मानवता के दुश्मनों ने मौत की घाट उतार दी। आज मृतक के पिता व अरेराज दर्शन अखबार के संपादक डॉ संजय कुमार सिंह न्याय के लिए दर-दर भटक रहे हैं लेकिन उन्हें न्याय नहीं मिल रहा है। प्रशासन के द्वारा अभी तक न तो घटना को अंजाम देने वाले सभी अपराधियों को गिरफ्तार किया गया,नहीं उन्हें सुरक्षा मुहैया कराया और न ही आर्म्स का लाइसेंसी दिया गया। इससे अस्पष्ट प्रमाणित हो रहा है कि लोकतंत्र के चौथे स्तंभ की अहमियत नहीं दी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed