नाला सफाई पर 30 लाख प्रति माह खर्च के बाद भी जलजमाव से त्रस्त

पूर्वी चंपारण से कुमार राकेश की रिपोर्ट

जलजमाव मे डुबा मोतिहारी सदर अस्पताल

-दो वर्षों से सभी नाले जाम

मोतिहारी, चार दिनों की बारिश ने मोतिहारी नगर निगम के दावे की पोल खोल कर रख दी है।चौतरफा जल जमाव के कारण मोतिहारी शहर डूब सा गया है।स्कूली बच्चें, वरिष्ठ नागरिक व महिलाओं के साथ आम नागरिक जलजमाव से परेशान होकर नगर निगम को कोस रहे है। निगम प्रशासन मूकदर्शक और सभी वार्ड पार्षद मेयर की कुर्सी बचाने और गिराने के खेल मे मशगूल हैं।

शहर की प्राय:सभी नालियां जाम है तथा सड़कों पर लगभग तीन से चार फीट पानी बह रहा है। कई मोहल्लों में तो लोगों के घरों में पानी प्रवेश कर चुका है। लोगों का कहना है कि नाला की सफाई के लिए नगर निगम हर महीने एजेंसी को 30 लाख रुपये देती है लेकिन नाला की सफाई नहीं की जाती है। इस कारण थोड़ी बारिश में हीं शहर पानी में डूब जा रहा है।

नगर निगम के आयुक्त सुनील कुमार का कहना है कि अधिक बारिश होने से नाला जाम हो गया है। वही सड़क तोड़कर पानी निकालने को उन्होंने अपनी उपलब्धि गिनाया लेकिन पूरे शहर से पानी निकालने के सवाल पर वे कन्नी काटने लगे।

नगर निगम की मेयर अंजू देवी ने बताया कि शहर की नाला सफाई को लेकर प्रति माह एजेंसी को 30 लाख रुपए दिए जाते हैं तो सफाई क्यों नहीं होता। इसके लिए वो सारा दोषी नगर आयुक्त सुनील कुमार को बताते कहती है कि उनका ढीला ढाला रवैया के कारण शहर जलजमाव से त्रस्त है।आरोप प्रत्यारोप जो भी हो लेकिन इतना तो साफ है जल जमाव से मोतिहारी की जनता परेशान भी है और आक्रोशित भी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed