खेलों का महाकुंभ ओलंपिकः तिरंगे की शान बढ़ाएंगे भारतीय खिलाड़ी, स्वर्ण पदक विजेता को मिलेंगे 75 लाख रुपए

नई दिल्ली -भारत समेत दुनियाभर के हजारों एथलीटों को अपनी काबिलियत और मेहनत का प्रदर्शन करने का सबसे बड़ा अवसर मिलने जा रहा है। शुक्रवार को भारतीय समयानुसार शाम 4.30 बजे टोक्यो ओलिंपिक 2020 (Tokyo Olympics 2020) की शुरुआत का आधिकारिक ऐलान होगा। भारतीय ओलंपिक एसोसिएशन की एडवाइजरी कमेटी ने आज भारतीय एथलीटों के लिए इनामी राशि की सिफारिश की है। सिफारिश के तहत स्वर्ण पदक विजेता को 75 लाख, रजत पदक विजेता को 40 और कांस्य पदक विजेता को 25 लाख रुपए दिए जाएंगे। हर खिलाड़ी को 1 लाख रुपए दिए जाएंगे। 127 सदस्यीय भारतीय दल यहां बड़ी उम्मीदों के साथ उतरेगा और उसकी नजरें अपने ओलंपिक इतिहास का सर्वश्रेष्ठ मेडल लाने पर होगी।

India at

ओलंपिक का आयोजन ऐसे समय हो रहा है जब पूरी दुनिया में कोरोना का कहर बरप रहा है। इस महामारी से ओलंपिक खेल गांव भी अछूता नहीं है और यहां कोरोना के मामले सामने आए हैं। मेजबान देश जापान में लोग महामारी के समय और दर्शकों के बिना ओलंपिक के आयोजन को लेकर गुस्से में है लेकिन अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) और जापान सरकार इस तथ्य को जानते हुए भी इन खेलों का आयोजन करा रहा है। हालांकि, एथलीटों ने इस दिन के लिए पांच साल का इंतजार और मेहनत की है और इनकी निगाहें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर अपने-अपने देश के लिए पदक लाने पर होगी। भारत ने टोक्यो ओलंपिक में रिकॉर्ड संख्या में एथलीटों को भेजा है जिसके कारण इस बार एथलीटों से काफी उम्मीदें भी हैं। भारत का ओलंपिक में इतिहास कुछ खास नहीं रहा है और उसने पिछले 100 वर्षो से अधिक समय में नौ स्वर्ण, सात रजत और 12 कांस्य पदक सहित 28 पदक ही जीते हैं। भारत ने हॉकी में 1928 से 1980 (1976 को छोड़कर) लगातार पदक जीते हैं। भारत ने हॉकी में आठ स्वर्ण, एक रजत और दो कांस्य पदक जीता है। हॉकी के अलावा 2008 बीजिंग ओलंपिक में अभिनव बिंद्रा ने भारत को 10 मीटर एयर राइफल में ऐतिहासिक स्वर्ण पदक दिलाया था।

Tokyo Olympics 2020 Preview: पांच साल का इंतजार खत्म, शुक्रवार को महाकुंभ का उद्घाटन, भारतीय एथलीट बनाएंगे इतिहास!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed