मेडिकल स्टोर पर एक्सपायर डेट की बेची जा रह ी है दवाइयां*

*

मुरादाबाद,
थाना नागफनी के क्षेत्र दीवान का बाजार में शर्मा मेडिकल स्टोर पर बेची जा रही हैं एक्सपायर दवाइयां बुजुर्ग महिलाओं और अनपढ़ लोगों को बनाया जा रहा बेवकूफ आपको बताते चले उस समय मेडिकल पर हड़कंप मच गया जिस समय की एक बुजुर्ग महिला शहनाज फातमा निवासी डेरिया मोहल्ला थाना नागफनी की रहने वाली है। उनका इलाज एक निजी डॉक्टर के यहां चल रहा है इलाज में डॉक्टर ने कुछ दवाइयां और इंजेक्शन देने के लिए कहा गया है जो शहनाज फातमा इंजेक्शन खत्म हो जाने के कारण वह अपने ही क्षेत्र के दीवान का बाजार से शर्मा मेडिकल स्टोर से इंजेक्शन लेने पहुंची और मेडिकल से इंजेक्शन लेकर जब अपने घर पहुंची तो वहां पर उनके पुत्र फैजी मौजूद थे जो मेडिकल लाइन से जुड़े हुए हैं उन्होंने जब इंजेक्शन लगाने के लिए मांगा तो उन्होंने उस पर देखा कि इंजेक्शन की एक्सपायर है। यह देख कर फैजी दंग रह गए और आनन-फानन में अपनी माताजी को लेकर शर्मा मेडिकल स्टोर पर तुरंत जा पहुंचे और इस पूरी घटना की जानकारी मेडिकल स्टोर मालिक राकेश शर्मा और उनके भाई मुकेश शर्मा को दी राकेश शर्मा इस बात को सुन कर दंग रह गए और इंकार करने लगे और कहने लगा कि हमारे यहां आगे एजेंसियों से दवाइयां आती है जो हम यहां पर क्षेत्रवासियों को भेजते हैं हमें नहीं पता कि एजेंसियों से किस तरह की दवाइयां आती हैं पीड़ित ने जब इसका विरोध किया तो आस पड़ोस के दुकानदार एकजुट होने लगे और मामले को रफा-दफा करने लगे क्षेत्रवासियों का कहना है कि यहां के लोग शर्मा मेडिकल स्टोर से ज्यादातर दवाइयां लेते हैं और उन दवाइयों को बिना डेट देखे हुए इस्तेमाल में लेते हैं क्योंकि हमारे क्षेत्र में जो लोग पढ़े-लिखे नहीं है उन लोगों को यह मेडिकल वाला डेट निकली हुई दवाइयां दे देता है क्योंकि इसकी दुकान काफी वर्ष पुरानी है और इसको क्षेत्र के हर व्यक्ति के बारे में पता है कि कौन पढ़ा लिखा है और कौन पढ़ा लिखा नहीं है पीड़ित शहनाज फातमा का कहना है कि अगर यह इंजेक्शन डेट निकला हुआ मेरे लग जाता तो एक बड़ा हादसा हो सकता था और यह इंजेक्शन डॉक्टर ने मेरी नस में लगाने के लिए बोला है जो मैं इंजेक्शन और कुछ दवाइयां शर्मा मेडिकल स्टोर से ही लेती हूं क्योंकि यह हमारे क्षेत्र का नजदीकी मेडिकल स्टोर है माना जा रहा है कि कुछ दलाल टाइप के व्यक्तियों की सरपरस्ती में यह शर्मा मेडिकल चल रहा है क्योंकि इसकी कभी जांच नहीं हुई अगर आला अधिकारियों द्वारा इसकी जांच करी जाए तो मेडिकल में ज्यादातर डेट निकली हुई दवाइयां पाई जा सकती है गनीमत यह रही कि इंजेक्शन लगने से पहले पीड़ित के बेटे फैजी ने देख लिया नहीं तो एक बड़ी घटना को यह इंजेक्शन अंजाम दे देता जिसका शिकार एक बुजुर्ग महिला हो जाती।

Loading...