महात्मा गांधी जयंती विशेष: बापू ने स्वच्छता और संयम से कैसे दी थी स्पेनिश फ्लू-प्लेग को दी थी मात

कोरोना ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है। मौतों का आंकड़ा 10 लाख पार पहुंच चुका है। ऐसे भयावह दौर में बापू याद आते हैं। क्योंकि उन्होंने तकरीबन सौ साल पहले शारीरिक दुर्बलता के बावजूद न सिर्फ स्पेनिश फ्लू से पीड़ित रोगियों की सेवा की बल्कि खुद को महामारी से बचाए भी रखा था। बापू ने प्लेग के खिलाफ जंग में भी तमाम जिंदगियां बचाई थीं। सेवा के साथ स्वच्छता, संयम, संतुलित भोजन और व्यायाम के जरिए उन्होंने इन महामारियों को हराया। महात्मा गांधी की सेहत पर वरिष्ठ विषाणु वैज्ञानिक व रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर (आरएमआरसी) के निदेशक डॉ. रजनीकांत ने शोध किया। उनके शोध को आईसीएमआर ने ‘ गांधी एंड हेल्थ @150 ‘ शीर्षक से प्रकाशित किया है। डॉ. रजनीकांत बताते हैं कि बापू का जोर इलाज से ज्यादा प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत कर बीमारियों से बचाव पर था। वह खुद जब भी बीमार हुए तो उन्होंने प्राकृतिक चिकित्सा को प्राथमिकता दी और प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत बनाने वाले उपायों पर अमल करते रहे। जरूरत पड़ने पर आइसोलेशन में भी रहते थे। 

स्वच्छता और संयम के जरिए लड़े स्पेनिश फ्लू से
डॉ. रजनीकांत बताते हैं कि वर्ष 1918 में स्पेनिश फ्लू के प्रकोप के दौरान बापू ने साबरमती आश्रम में संक्रमितों की सेवा शुरू की। उनके परिवार के भी दो सदस्य संक्रमण की चपेट में आ गए। पर वह सेवा में जुटे रहे। मरीजों के नियमित संपर्क में रहने से उन पर भी संक्रमण का खतरा मंडरा रहा था। ऐसे में वह पृथकवास (आइसोलेशन) में भी रहे। इस दौरान ठोस भोज्य पदार्थ की बजाय वह तरल पदार्थ लेते थे।

दो बार प्लेग  से लड़े गांधी जी
दक्षिण अफ्रीका में पहली बार बापू का प्लेग से वास्ता पड़ा। जोहानेसबर्ग में बापू ने एम्बुलेंस सेवा शुरू की। इस दौरान उन्हें एक सहयोगी के न्यूमोनिक प्लेग से बीमार होने की सूचना मिली। तत्काल बापू साथियों के साथ गांव में पहुंचे और मिनी अस्पताल खोला। बीमारों की खुद तीमारदारी कर इलाज किया। इस दौरान बापू व उनके सहयोगी सिर्फ एक वक्त का भोजन करते थे। उनका मानना था कि ज्यादा भोजन बीमारी को दावत देता है। 

लंदन से सीखा था संतुलित भोजन व्यायाम व संयम 
डॉ. रजनीकांत बताते हैं कि लंदन में बैरिस्टर की पढ़ाई के दौरान बापू माइग्रेन से पीड़ित हो गए। दवाओं से राहत नहीं मिलने पर एक प्राकृतिक चिकित्सक ने उन्हें सुबह का नाश्ता न करने की सलाह दी। इस इलाज से वह इतना प्रभावित हुए कि फिर कभी उन्होंने ब्रेकफास्ट नहीं किया।

बापू ने चलाई एम्बुलेंस, स्ट्रेचर ब्वॉय भी बने
बापू ने दक्षिण अफ्रीका में एम्बुलेंस कार्प की स्थापना की। इस कॉर्प में उन्हें सार्जेंट मेजर का पद मिला था पर भूमिका स्ट्रेचर ब्वॉय की रही। इस दौरान टीम के सदस्यों को मरीज को लेकर 64 किलोमीटर का सफर पैदल तय करना पड़ता। इसी दरम्यान प्लेग फैल गया और बापू की टीम पूरी तरह सक्रिय रही।

तीन बार मलेरिया की चपेट में आए 
डॉ.रजनीकांत बताते हैं कि बापू को ब्लड प्रेशर की दिक्कत थी। फरवरी 1940 में उनका रक्तचाप 220/110 हो गया। लेकिन इस पर उन्होंने संयम और आत्मानुशसन से काबू पाया। वर्ष 1925, 1936 और 1944 में उन्हें मलेरिया हुआ। इसके इलाज के लिए उन्होंने प्राकृतिक चिकित्सा के साथ उपवास का सहारा लिया। हालांकि इस दौरान उन्हें उसी हाइड्राक्सी क्लोरोक्वीन की दो गोलियां खानी पड़ी थीं जो इस समय कोरोना के इलाज में जुटे फ्रंट लाइन वर्कर्स को दी जा रही है। वह एकादशी का व्रत रखते थे। उनका मानना था कि नियमित अंतराल पर उपवास से शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत होता है।

दुग्ध उत्पादों से परहेज
बापू दुग्ध उत्पादों से परहेज रखते थे। लेकिन वर्ष 1918 व 1929 में जब उन्हें पेचिश (एक्यूट डिसेंट्री) की दिक्कत हुई तो डॉक्टरों की सलाह पर उन्होंने बेहिचक बकरी के दूध का सेवन किया। वह वर्ष 1939 में गैस्ट्रिक फ्लू और वर्ष 1945 में इंफ्लूएंजा के भी शिकार हुए लेकिन उन्होंने चंद दिनों में इन बीमारियों को भी हरा दिया था।

देश में पृथ्वी के चक्कर का दोगुना पैदल चले
युवावस्था से ही बापू रोजाना 18 किलोमीटर पैदल चलते थे। लंदन में बैरिस्टर की पढ़ाई के दौरान वह रोजाना सुबह 5.30 बजे आठ मील टहलते। रात में भोजन के बाद भी वह 45 मिनट टहलते। उनका यह क्रम 40 साल तक बरकरार रहा। देश में आजादी के आंदोलन में वर्ष 1913 से 1948 तक वह 79 हजार किलोमीटर पैदल चले। यह पृथ्वी के चक्कर का दोगुना है।

बापू की डाइट

  • सुबह फल का रस या आमतौर पर नींबू-पानी लेते थे
  • शाम को 2 चपाती, एक कटोरी दाल और हरी सब्जी
  • दिन में उपलब्धता पर तरल भोज्य पदार्थ, नार्मल पानी
  • (यह सामान्य दिनों की डाइट थी)