दिल्ली : ठीक हुए कोरोना मरीजों को सता रहा दोबारा संक्रमण का डर

कोरोना से ठीक हो चुके लोगों को स्वस्थ होने के बाद भी कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। वहीं, कई मरीजों में दोबारा से कोरोना होने का भय देखने को मिल रहा है। पोस्ट कोविड क्लीनिक में ऐसे कई मामले सामने आए हैं।

राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ. बी एल शेरवाल ने बताया कि दो हजार से ज्यादा मरीज ठीक होकर अपने घर चले गए हैं। डॉक्टरों की एक टीम ऐसे मरीजों से लगातार संपर्क में है। मरीजों की टेली काउंसिलिंग की मदद से समस्याओं को दूर किया जाता है। अलग-अलग मरीज कई तरह की परेशानियां बताता है। वह मानसिक तौर पर स्वस्थ रहे उसके लिए योगा करने से लेकर ध्यान लगाने की सलाह दी जाती है। मरीजों में आत्मविश्वास की कमी और बेचैनी होने की बाते ज्यादा सामने आ रही है।

244 मरीज पोस्ट कोविड क्लीनिक में पहुंचे
डॉ. शेरवाल ने बताया कि ऐसे मरीजों के लिए पोस्ट कोविड क्लीनिक भी बनाया गया है। इसमें एनसीआर से भी लोग काउंसिलिंग के लिए आते हैं। अब तक 244 से ज्यादा मरीज क्लीनिक में दिखाने के लिए आ चुके है। 10 से 15 फीसदी मरीजों में कोरोना के दोबारा होने को लेकर भय देखने को मिला। इसके अलावा मरीज बदन दर्द और थकावट होने की समस्या को भी बयां करते हैं। मरीजों को खान-पान ठीक रखने और नियमित तौर पर योग व व्यायाम करने की सलाह दी जाती है।

आठ हजार से ज्यादा लोकनायक में मरीज हुए ठीक
दिल्ली के सबसे बड़े कोविड लोकनायक अस्पताल से भी आठ हजार से ज्यादा मरीज ठीक होकर घर जा चुके है। अस्पताल की कोरोना को लेकर दो हजार बेड की क्षमता है, जिसमें फिलहाल करीब 1306 बेड खाली पड़े हैं।