ग्रेटर नोएडा : दो प्रॉपर्टी डीलरों की हत्या में हरियाणा से दो लोग गिरफ्तार, रंजिश के चलते हुई थी हत्या

ग्रेटर नोएडा के थाना बिसरख क्षेत्र में 07 सितंबर की रात हुई दो प्रॉपर्टी डीलरों की हत्या के मामले में पुलिस ने शुक्रवार को घटना में शामिल होने के आरोप में हरियाणा के रहने वाले दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पूछताछ के दौरान पुलिस को इस घटना में शामिल हमलावरों और अन्य लोगों के बारे में अहम जानकारी मिली है।

पुलिस उपायुक्त (जोन द्वितीय) हरीश चंद्र ने बताया कि थाना बिसरख क्षेत्र स्थित अजनारा ली गार्डन नामक सोसाइटी में 07 सितंबर की रात प्रॉपर्टी डीलर डालचंद शर्मा उर्फ विराट और अरुण त्यागी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले की जांच कर रही पुलिस ने शुक्रवार को हरियाणा के फरीदाबाद जनपद के गांव छांयसा निवासी मोहित तथा गुरुग्राम निवासी सुरेश को गिरफ्तार किया है। 

सिर्फ डालचंद की हत्या के लिए दी थी सुपारी 

उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि इन लोगों ने प्रॉपर्टी डीलर डालचंद की हत्या की योजना बनाई थी तथा सुपारी देकर उनकी हत्या कराई। घटना के दिन डालचंद के साथ कार में बैठे प्रॉपर्टी डीलर अरुण त्यागी भी बदमाशों की गोलियों के शिकार हो गए थे। अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान पुलिस को पता चला है कि वर्ष 2009 से ही सरपंच के चुनाव को लेकर डालचंद के परिवार की अपने पैतृक गांव छांयसा जनपद फरीदाबाद, हरियाणा में रंजिश चल रही है। इस रंजिश में डालचंद के भाई राजेंद्र शर्मा और कपिल की भी पूर्व में हत्या कर दी गई थी। वहीं, वर्ष 2017 में दूसरे पक्ष के कृष्ण नामक व्यक्ति की हत्या हो गई थी। 

हत्याकांड में और लोग भी शामिल

उन्होंने कहा कि पुरानी रंजिश को लेकर ही गत सितंबर को दोहरा हत्याकांड हुआ। यह हत्या सुपारी देकर कराई गई। गिरफ्तार दोनों आरोपियों से पूछताछ के आधार पर हमलावरों तथा इस घटना में शामिल अन्य लोगों के बारे में जानकारी पुलिस को मिली है जिन्हें जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। वहीं, इस मामले में प्रथम दृष्टया लापरवाही का दोषी पाए जाने पर पुलिस ने सोसाइटी से जुड़े बिल्डर तथा संबंधित सिक्योरिटी एजेंसी के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्णय लिया है।

सिक्योरिटी एजेंसी का लाइसेंस होगा रद्द

डीसीपी हरीश चंद्र ने बताया कि दोहरे हत्याकांड की जांच में प्रथम दृष्टया बिल्डर की लापरवाही सामने आई है। सोसाइटी निवासियों की सुरक्षा के लिए अनुभवहीन और लापरवाह सुरक्षा एजेंसी (एवरग्रीन फैसिलिटी/ मैनेजमेंट सर्विस) की सेवा लिए जाने और वहां के रखरखाव प्रभारी के व्यवहार को लेकर नोटिस जारी किया गया है। अधिकारी ने बताया कि सोसाइटी में तैनात सुरक्षा एजेंसी के सुरक्षा गार्डों ने हमलावरों को बिना किसी जांच के गेट के अंदर जाने दिया। आरोपी वारदात के बाद आसानी से फरार हो गए, यहां तक कि गार्डों ने वारदात होने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की। ऐसे में सिक्योरिटी एजेंसी के खिलाफ लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस घटना के बाद जनपद की कई सोसाइटियों के पदाधिकारियों ने पुलिस से यहां अनुभवहीन गार्ड रखे जाने की शिकायत की है जिससे लोगों को जान-माल का खतरा है।