कोविड-19 के उपचार में वासा, गुडूची की भूमिका का अध्ययन करेगा आयुष मंत्रालय

आयुष मंत्रालय ने कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों को बीमारी के लक्षणों में राहत देने में वासा एवं गुडूची की भूमिका के आकलन के लिए क्लीनिकल अध्ययन किए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। मंत्रालय ने बताया कि यह अध्ययन सीएसआईआर (वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद) की आईजीआईबी इकाई के सहयोग से नयी दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए) में किया जाएगा। 
आयुष मंत्रालय ने कोविड-19 के समाधान तेजी से खोजे जाने की आवश्यकता के मद्देनजर विभिन्न माध्यमों से अलग-अलग संभावित समाधान को लेकर व्यवस्थित अध्ययन आरम्भ किए हैं।
मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ”इस प्रयास के तहत कोविड-19 से संक्रमित लोगों को बीमारी के लक्षणों में राहत देने में वासा घाना, गुडूची घाना और वासा-गुडूची घाना की भूमिका का क्लीनिकल अध्ययन किए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है। मंत्रालय ने कहा कि वासा और गुडूची भारतीय स्वास्थ्य परंपराओं में जांच-परखीहुई जड़ी-बूटियां हैं, जिनका उपयोग विभिन्न प्रकार के रोगों के लिए किया जाता है, इसलिए इस अध्ययन का परिणाम पूरे आयुष क्षेत्र के लिए अहम होगा।