Published On: Tue, Jan 16th, 2018

छत्तीसगढ़: सुकमा में सड़कों की सुरक्षा करेंगी महिला कमांडो

छत्तीसगढ़ के नक्सलवाद प्रभावित सुकमा जिले में अब महिला कमांडो नक्सलियों से लोहा लेंगी. छत्तीसगढ़ पुलिस ने पिछले दिनों 60 महिला कमांडो को यहां सड़क निर्माण सुरक्षा में तैनात किया है.

हिंदुस्तान टाइम्स में छपी खबर के अनुसार इन महिला कंमाडो को नक्सलियों से लड़ने के लिए विशेष ट्रेनिंग दी गई है. पहले चरण में इन्हें सड़क सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है.

सुकमा के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अभिषेक मीणा ने बताया कि ये सभी महिला कॉन्स्टेबल नक्सलियों से लड़ना चाहती थीं इसलिए हमनें इन्हें 70 दिन तक कमांडो ट्रेनिंग दी. ट्रेनिंग के बाद इन्हें (महिला कमांडो) नक्सलवाद से सबसे ज्यादा प्रभावित दक्षिण सुकमा में रोड ओपनिंग पार्टी (आरओपी) के तौर पर तैनात किया गया.

इन महिला कमांडो में सरेंडर कर चुकी महिला नक्सली हैं. साथ ही पुलिस की सामान्य भर्ती प्रक्रिया के तहत चुनी गई महिलाएं भी शामिल हैं.

naxal

प्रतीकात्मक तस्वीर

नक्सलवाद प्रभावित इलाके में सड़क निर्माण का काम जोखिमों से भरा हुआ है

सुकमा जिले में दोरनापाल से जगरगुंडा तक सड़क बनाई जा रही है. लेकिन यहां सड़क निर्माण का काम जोखिमों से भरा हुआ है. आए दिन यहां नक्सली हमले होते हैं. सड़क निर्माण न हो इसके लिए नक्सली रास्ते में जगह-जगह बारूदी सुरंग बिछा देते हैं.

पिछले साल अप्रैल में यहां नक्सलियों ने घात लगाकर हमला बोल दिया था जिसमें 25 सीआरपीएफ जवानों की मौत हो गई थी. हमला करने वाले नक्सलियों में तकरीबन 60 फीसदी तादाद महिला नक्सलियों की थी.

एंटी नक्सल ऑपरेशन के स्पेशल डीजी डीएम अवस्थी ने कहा कि ये महिला कमांडो काफी बहादुर हैं. इन्हें कड़ी ट्रेनिंग दी गई है. उन्होंने कहा कि महिला कमांडो नक्सलियों के सुरक्षाबलों पर लगाए जाने वाले रेप के झूठे आरोपों से भी बेहतर ढंग से निपट सकेंगी.

रोड ओपनिंग पार्टी का काम सड़क निर्माण में लगे मजदूरों और कर्मचारियों को सुरक्षा मुहैया करना है और उन्हें नक्सली हमले से बचाना है.

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

%d bloggers like this: