Published On: Sun, Jan 7th, 2018

UP पुलिस को ट्विटर पर मिली 2.25 लाख शिकायतें, सस्पेंड हुए 90 पुलिसकर्मी

लखनऊ: प्रदेश में  योगी सरकार के आने के बाद यूपी पुलिस अपनी ट्विटर सेवा पर बेहद गंभीरता से काम कर रही है। यूपी पुलिस देश में कानून एवं व्यवस्था संभालने वाली ऐसी पहली फोर्स है, जिसने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर का बखूबी इस्तेमाल करते हुए पूरे प्रदेश के अंतर्गत साल 2017 में आम से लेकर खास लोगों की 2.25 लाख से अधिक शिकायतें मिली। इसमें से 79,761 शिकायतों पर पुलिस ने संज्ञान लिया। वहीं ट्विटर पर मिली शिकायतों के आधार पर ही जांच कर यूपी पुलिस ने अपने ही विभाग में तैनात 90 पुलिसकर्मियों को निलंबित करने की बड़ी मिसाल पेश की।
 
यूपी पुलिस को ट्विटर हैंडल पर वैसे तो कुल 2,25,858 शिकायतें मिली। इसमें से यूपी पुलिस ने 79,761 शिकायतों को कार्रवाई योग्य पाया। यूपी पुलिस का दावा है कि इनमें से 92 प्रतिशत शिकायतों को हल कर दिया गया। वहीं यूपी के 75 जिलों से यूपी पुलिस को यूपी पुलिस ट्विटर हैंडल पर 73,257 शिकायतें मिली। शिकायतों के मामले में 75 जिलों में राजधानी लखनऊ साल 2017 में टॉप पर रहा। लखनऊ से इस दौरान कुल 8,039 शिकायतें लोगों ने ट्वीट की। वहीं दूसरे नंबर पर 6883 शिकायतों के साथ नोएडा और तीसरे नंबर पर 4966 शिकायतों के साथ गाजियाबाद रहा।
 
थानों में एफआईआर दर्ज न होने पर यूपी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठने लगे थे। इस दौरान यूपी पुलिस ने ट्विटर सेवा पर ऐसे लोगों की परेशानी का हल निकालना शुरु कर दिया। साल 2017 में यूपी पुलिस ने 75 जिलों के संबंधित थानों में ट्विटर पर मिली शिकायतों के आधार पर 434 एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए। यूपी पुलिस ने केवल आम लोगों के खिलाफ ही कार्रवाई नहीं की, बल्कि पुलिसकर्मियों के खिलाफ मिलने वाली शिकायतों पर भी सख्त कदम उठाएं। यूपी पुलिस ने पुलिसकर्मियों पर भ्रष्टाचार, मारपीट, अभद्रता व अन्य मामलों में की शिकायत को गंभीरता से लिया। इन शिकायतों के आधार पर साल 2017 में ट्विटर पर मिली शिकायतों के आधार पर 90 पुलिसकर्मी सस्पेंड किए गए, 22 पुलिसकर्मियों को पुलिस लाइन भेजा गया, 18 पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ और 170 पुलिसकर्मियों के खिलाफ जांच शुरु की गई।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

%d bloggers like this: