Published On: Thu, Dec 21st, 2017

गर्ल्स हॉस्टल की आड़ में बनाया अय्याशी का अड्डा, घर के कचरे से खुली पोल

छत्तीसगढ़ के रायपुर में हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है. राजेंद्र नगर की पॉश कॉलोनी के एक मकान को दलालों ने महिला हॉस्टल में तब्दील कर दिया था. यहां लड़कियों की देर रात तक आवाजाही होती थी. शक होने पर लोगों ने पुलिस को सूचित किया. पुलिस छापा मारकर रैकेट का भंडाफोड़ किया है. 6 लड़कियों सहित 10 लोग गिरफ्तार किए गए हैं.

जानकारी के मुताबिक, गर्ल्स हॉस्टल के रूप में एक माकन का उपयोग हो रहा था. लिहाजा लोगों ने यहां चल रही गतिविधियों को नजर अंदाज किया. सुबह से लेकर रात तक कई रईसजादे इस मकान का रुख करते थे. उनकी लग्जरी गाड़ियां सड़क पर खड़ी रहती थीं. इलाके के लोग समझते थे कि वे लोग अपने परिचित लड़कियों से मिलने के लिए आते हैं.

इसी बीच गर्ल्स हॉस्टल से निकलने वाले आपत्तिजनक कचरे ने यहां चल रहे गोरखधंधे की पोल खोल दी. कचरे में कंडोम, सेक्स टॉनिक की खाली बोतल और शक्तिवर्धक कैप्सूल के रैपर रोजाना निकलने से कॉलोनी के लोगों की नींद उड़ गई. मंगलवार की रात जब हॉस्टल में शराब पीकर हंगामा हुआ तो लोगों ने इसकी शिकायत थाने में कर दी.

पुलिस की टीम लोगों द्वारा बताए घर पहुंची. वहां सभी दरवाजे बंद थे. चूंकि महिला हॉस्टल का नाम दिया गया था, लिहाजा पुलिस ने सतर्कता बरती. पुलिस के जवान चोरी छिपे हॉस्टल में दाखिल हुए. उन्होंने भीतर झांक कर देखा तो उन्हें माजरा समझने में देर नहीं लगी. भीतर जाम छलक रहे थे. सिगरेट का धुआं उड़ रहा था. मदहोश लड़के-लड़कियां नाच रहे थे.

पुलिस ने दरवाजा खटखटाया और भीतर दाखिल हो गई. पुलिस के आने की खबर लगते ही इस मकान का पिछला दरवाजा खुला और कई लड़के-लड़कियां 9-11ग्यारह हो गए. हालांकि, मौके से छह लड़कियां और चार लड़के पकड़े गए. ये सभी हॉल में मस्ती कर रहे थे, जबकि पिछले कमरों में मस्ती में तीन लड़के लड़कियों को भागने का मौका मिल गया.

पकड़ी गई लड़कियां कोलकाता और मुंबई की निवासी बताई जा रही हैं. ये सभी दो माह के वर्क कांट्रैक्ट पर रायपुर आई थीं. पुलिस के मुताबिक सभी के खिलाफ पीटा एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है. फरार हुए लड़के-लड़कियों की तलाश की जा रही है. बताते चलें कि इस बीच छत्तीसगढ़ जिस्मफरोशी की घटनाएं बहुत तेजी से बढ़ी हैं.

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

%d bloggers like this: