Published On: Sun, Apr 15th, 2018

उन्नाव कांड में सीबीआइ को अहम सबूत मिले, 17 घंटे पूछताछ के बाद विधायक गिरफ्तार

लखनऊ । उन्नाव कांड में एसआइटी की जांच रिपोर्ट के बाद काफी तेजी से घटनाक्रम बदला। भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ बुधवार रात उन्नाव के माखी थाने में दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज किए जाने के बाद गुरुवार को सीबीआइ जांच की संस्तुति किए जाने से लेकर केंद्र सरकार की मंजूरी तक की प्रकिया पांच घंटों के भीतर ही पूरी कर ली गई। भाजपा शासनकाल में अब तक छह मामलों में सीबीआइ जांच की सिफारिश भारत सरकार को भेजी गई थी लेकिन सीबीआइ ने तीन मामलों में ही जांच शुरू की। उन्नाव कांड चौथा मामला है, जिसमें सीबीआइ जांच होगी। इस शासनकाल में सीबीआइ जांच के लिए की गई यह सातवीं सिफारिश थी। इससे पूर्व सीबीआइ आइएएस अनुराग तिवारी की मौत, गोमती रिवर फ्रंट घोटाला व उप्र लोक सेवा आयोग भर्ती घोटाला की जांच कर रही है।

1-दिल्ली-सहारनपुर हाईवे घोटाला

प्रदेश में भाजपा सरकार के गठन के बाद सबसे पहले दिल्ली-सहारनपुर हाईवे घोटाले की जांच सीबीआइ से कराए जाने की सिफारिश मई 2017 में की थी। यह मामला बसपा व सपा शासनकाल से जुड़ा है, जिसमें हैदराबाद की एक निजी कंपनी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी।

2-आइएएस अनुराग मौत मामला

17 मई 2017 को कर्नाटक कैडर के आइएएस अनुराग तिवारी की मौत के मामले में सीबीआइ जांच की सिफारिश की गई थी। सीबीआइ हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच कर रही है लेकिन अब तक किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है।

3-गोमती रिवरफ्रंट घोटाला

राज्य सरकार ने गोमती रिवरफ्रंट घोटाले की सीबीआइ जांच कराने की संस्तुति की थी। नवंबर 2017 में सीबीआइ लखनऊ की एंटी करेप्शन ब्रांच ने मामले में सिंचाई विभाग के तत्कालीन चीफ इंजीनियर सहित आठ अधिकारियों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू की।

4-यूपीपीएससी भर्ती घोटाला

दिसंबर 2018 में उप्र लोक सेवा आयोग भर्ती घोटाले की सीबीआइ जांच की सिफारिश की गई थी। सीबीआइ इस मामले की जांच कर रही है।

5-बीके यादव भ्रष्टाचार मामला

नवंबर 2017 में यूपी कोआपरेटिव सुगर फैक्ट्रीज फेडरेशन के तत्कालीन प्रबंध निदेशक बीके यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले की सीबीआइ जांच कराने की सिफारिश की गई। इस मामले में किन्हीं कारणों से अभी तक जांच शुरू नहीं की जा सकी है।

6-रुचि शर्मा हत्याकांड

गाजियाबाद के बहुचर्चित रुचि शर्मा हत्याकांड की सीबीआइ जांच कराने की सिफारिश की गई थी, लेकिन दोनों मामलों की सीबीआइ जांच अब तक शुरू नहीं हो सकी।

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.