Published On: Sat, Oct 14th, 2017

मुख्यमंत्री को भी नहीं छोड़ा -मिल गई CM केजरीवाल की चोरी हुई नीली कार, दिल्ली से पहुंच गई यूपी

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चोरी हुई वैगन आर कार यूपी पहुंच गई है। नीली वैगनआर कार को आज गाजियाबाद के थाना साहिबाबाद क्षेत्र के मोहन नगर से लावारिस हालत में बरामद किया गया।
केजरीवाल की यह कार दो ‌द‌िन पहले गायब हुई थी और शन‌िवार(14 अक्टूबर) को गाज‌ियाबाद के मोहनगर में लावार‌िस हालत में म‌िली। एसपी स‌िटी आकाश तोमर ने बताया क‌ि यह कार यहां दो द‌िन से खड़ी है। इस मामले में गाज‌ियाबाद पुल‌िस आज दोपहर में प्रेस कांफ्रेंस कर बड़ा खुलासा करेगी।

ऐसे पहुंची गाज‌ियाबाद
बता दें कि पुलिस ने कार को ढूंढते हुए सीसीटीवी कैमरे खंगाले ज‌िनकी फुटेज से यही स्पष्ट हो रहा था क‌ि कार यूपी पहुंच गई है। फुटेज में चोर कार को दिल्ली सचिवालय से सरायकालेखां की तरफ ले जा रहा है। कार आश्रम तक नहीं पहुंची है।

हालांकि शुक्रवार शाम तक मुख्यमंत्री की कार का दिल्ली पुलिस को कोई सुराग हाथ नहीं लगा था।
मध्य जिले के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि दिल्ली सचिवालय के ऊपर लगे सीसीटीवी कैमरे से पता लग रहा है कि एक युवक कार को चुराकर ले जा रहा है। लेकिन आरोपी का चेहरा साफ नहीं दिख रहा है।

कार करीब पौने दो बजे चोरी हुई। हालांकि इसकी रिपोर्ट शाम करीब साढ़े चार बजे की गई।
रिंग रोड पर आईपी बस डिपो के पास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में दिख रहा है कि चोर कार को सचिवालय से सरायकालेखां की तरफ ले जा रहा है। इसके बाद पुलिस ने आश्रम पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली, मगर आश्रम की तरफ कार नहीं गई।

ऐसे में दिल्ली पुलिस अधिकारी मान रहे थे कि कार एनएच-24 या फिर डीएनडी होकर नोएडा या गाज‌ियाबाद चली गई। पूर्वी दिल्ली में एक जगह कार यूपी की तरफ जाती हुई दिखाई दी थी। मध्य जिले के एक अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि कार चोर का पता लगाने के लिए जिले की करीब आठ टीमें बनाई गई थीं।

इन टीमों ने रात भर रिंग रोड, दिल्ली गेट, कश्मीरी गेट, पूर्वी दिल्ली जाने वाली रास्ते, आईटीओ, प्रगति मैदान, आईपी बस डिपो, विकास और लक्ष्मी नगर पर रोड किनारे लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाला।

इसके अलावा पूर्वी दिल्ली में रात भर हर पार्किंग में तलाशी अभियान चलाया गया। मगर किसी भी पार्किंग में कार नहीं मिली। पुलिस दिल्ली से सटे यूपी के इलाकों में भी मुख्यमंत्री की कार को ढूंढा गया। हालांकि शनिवार सुबह इसे गाज‌ियाबाद से लावार‌िस हालत में बरामद किया गया।

दिल्ली से हर रोज चोरी होते हैं 112 वाहन
दिल्ली में वाहन चोरी की वारदात हर वर्ष बढ़ती जा रही है। थानों का अपराध का जो ग्राफ बढ़ता है वह भी वाहन चोरी की वारदात से बढ़ता है। दिल्ली में हर रोज 112 वाहन चोरी होते हैं। वर्ष 2017 में एक जनवरी से लेकर 30 सितंबर तक 30449 वाहन चोरी हो चुके हैं। वर्ष 2016 में हर रोज 106 वाहन चोरी होते थे।

दिल्ली पुलिस की टीम मेरठ पहुंची
पुलिस ने बताया कि राजधानी से जो वाहन चोरी होते हैं उनमें से ज्यादातर को मेरठ ले जाया जाता है। चोरी के वाहनों के यहां पहुंचते ही उन्हें गोदामों में छिपा दिया जाता है और कुछ ही मिनटों में कार के हर पुर्जे को अलग कर दिया जाता है। इस कारण दिल्ली पुलिस की एक टीम ने मेरठ के सोतीगंज समेत कई जगहों पर तलाशी अभियान चलाया, पर कार का सुराग हाथ नहीं लगा।

दिल्ली में बदमाशों का दुस्साहस इतना बढ़ गया है कि उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री तक को नहीं छोड़ा। बृहस्पतिवार को दिनदहाड़े दिल्ली सचिवालय के सामने से बदमाशों ने अरविंद केजरीवाल की बहुचर्चित वैगनआर कार चुरा ली।

कार का इस्तेमाल आप यूथ विंग की इंचार्ज वंदना कुमारी कर रही थीं। आईपी एस्टेट थाने में कार चोरी का केस दर्ज करा दिया गया है। पुलिस पार्किंग में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से मामले की छानबीन कर रही है।

पुलिस के मुताबिक, वंदना कुमारी सिविल लाइंस इलाके में रहती हैं। उन्होंने बताया कि पिछले करीब दो साल से वह मुख्यमंत्री की निजी कार का इस्तेमाल कर रही थीं। सुबह 11.45 बजे उन्होंने दिल्ली सचिवालय के गेट नंबर-3 के सामने पार्किंग में कार खड़ी की।

दोपहर जब काम खत्म कर सचिवालय से बाहर निकलीं, तो पार्किंग में कार नहीं थी। शुरुआती जांच के बाद पता चला है कि कार दोपहर करीब 1:00 बजे चोरी हुई। वारदात पार्किंग के पास लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद हो गई।

चर्चा में रही है कार
गौरतलब है कि मुख्यमंत्री बनने के पहले और बाद में अरविंद केजरीवाल ने काफी समय तक इस कार का इस्तेमाल किया था। नीले रंग की वैगनआर कार उनकी पहचान बन गई थी।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>