Published On: Sat, Oct 21st, 2017

चीनी सामान की क्वॉलिटी को लेकर भारत सरकार सख्त , BIS मानक पूरे करने होंगे चीन को

भारत और चीन के साथ होने वाले द्धिपक्षीय व्‍यापार में चीन बड़ा व्‍यापारी देश है। चीन भारत को भारी मात्रा में निर्यात करता है। लेकिन भारत का चीन को होने वाला अधिकतर निर्यात कच्‍चे माल के ही रूप में होता है।

जबकि चीन भारत को कच्‍चा माल कम बल्कि तैयार माल ज्‍यादा निर्यात करता है। भारत से चीन को होने वाला निर्यात भी आयात की तुलना में बहुत कम है। जिससे व्‍यापार घाटे की खाई भी बढ़ती जा रही है।

लेकिन अब भारत सरकार चीनी सामानों पर अंकुश लगाने के मकसद से बड़ी कार्रवाही करने का पूरी तरह मन बना चुकी है। इस कार्रवाही को करने के मकसद के पीछे चीन के साथ बढ़ती तनातनी को भी जोड़ कर देखा जा रहा है।

सरकार सख्‍त हुई तो चीन से आने वाले सस्‍ते सामानों पर रोक लग सकती है :


जैसा कि खबरें आ रही हैं कि भारत सरकार चीनी सामान पर गुणवत्‍ता कंट्रोल और नियंत्रण पर सख्‍त कार्रवाही करने की दिशा में कदम उठाने जा रही है।

उससे भारत आने वाले चीनी सामान जिसमें पूंजीगत सामान और उपभोक्‍ता सामान दोनों ही शामिल हैं। इन पर सख्‍ती की जा सकती है।

यदि चीनी उत्‍पादों के खिलाफ भारतीय मानक के अनुरूप कार्रवाही हुई तो चीन से आने वाले निर्माण और रसायन, मशीनरी, खिलौने, बिजली के सामान व खाद्ध प्रस्‍संकरण जैसे माल प्रभावित हो सकता है।

देखने में आया है कि चीन का इन सभी सेक्‍टर में बड़ा दबदबा है। सख्‍ती होने पर चीन में बनें खिलौने और स्‍टील से बना सामान निशाने पर आ जाएगा। जिसकी भारतीय बाजार में गुणवत्‍ता बहुत ही घटिया आंकी जाती है।

चीन को भारतीय मानक ब्‍यूरो के 23 हजार मानक फॉलो करने होंगें :


अब चीन को भारतीय मानक ब्‍यूरो के 23 हजार मानक पूरे करने होंगें, जोकि भारत में उत्‍पादों पर सख्‍ती से लागू कराए जाते हैं।

अभी इन मानकों का आयात में भारी उल्‍लंघन होता है। लेकिन अब सरकार ने अपने विभागों को दिशा निर्देश जारी करते हुए कहा है, कि चीनी सामानों का प्रमुखता से लैबोरेटेरी टेस्‍ट तथा मौके पर भी अन्‍य जरूरी टेस्‍ट किए जाएंगें।

इस सख्‍ती से एक बार फिर बढ़ सकती है चीन और भारत के बीच तनातनी :

चीन दुनिया का तेजी से सुपर पावर बनने की दिशा मे अग्रसर है। ऐसे में डोकलाम विवाद के बाद भारत यदि चीन में बने उत्‍पादों पर भारतीय मानक के अनुरूप सख्‍ती करता है।

तो एक बार फिर दोनों देशों के बीच तनातनी बढ़ सकती है। भारत सरकार ने जिस प्रकार के आदेश जारी किए हैं,वह घरेलू और विदेशी सभी निर्माताओं पर समान रूप से लागू होंगें। ऐसे में चीन का चिढ़ना स्‍वभाविक है।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

%d bloggers like this: