Published On: Wed, Dec 20th, 2017

दिल्ली: बंधक बनाकर लड़कियों के यौन शोषण मामले में आध्यात्मिक विश्वविद्यालय पर छापा

उत्तर दिल्ली के आध्यात्मिक विश्वविद्यालय पर दिल्ली पुलिस और हाईकोर्ट की टीम ने बुधवार को छापेमारी की। आरोप है कि विश्वविद्यालय परिसर में लड़कियों को बंधक बनाकर उनका यौन शोषण किया जाता है। छापेमारी हाईकोर्ट के निर्देश पर की गई है।

इससे कुछ ही देर पहले बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने बाबा वीरेंद्र देव के आश्रम में लड़कियों को बंधक बनाकर रखे जाने के मामले की सीबीआई जांच का आदेश दिया। हाईकोर्ट ने सीबीआई को आश्रम में लड़कियों के साथ कथित बलात्कार और आत्महत्या के मामले में दर्ज सभी प्राथमिकियों से जुड़े दस्तावेज जब्त करने का निर्देश दिया है। आरोप है कि आश्रम में आध्यात्मिक शिक्षा के नाम पर लड़कियों का यौन शोषण किया जाता है। हाईकोर्ट ने सीबीआई निदेशक को जांच के लिए विशेष जांच दल गठित करने का भी आदेश दिया।

जांच टीम को बाबा ने बनाया बंधक
हाईकोर्ट की ओर से नियुक्त पैनल ने अदालत को बताया कि जांच लिए वह मंगलवार को आश्रम गये तो वहां के कुछ कर्मचारियों ने उनके साथ मारपीट की और करीब एक घंटे तक बंधक बनाये रखा। हाईकोर्ट की ओर से नियुक्त पैनल ने कहा कि आश्रम में 100 से ज्यादा लड़कियों को बंधक बनाकर रखा गया है और उनमें से ज्यादातर नाबालिग हैं।

मंगलवार को दिल्ली हाईकोर्ट पुलिस को तत्काल तत्काल कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। कोर्ट ने कहा था कि कहीं यहां भी हरियाणा के सिरसा जैसी स्थिति न हो, जहां लड़कियों व महिलाओं को बंधक बनाकर रखा गया था। अगर ऐसे हालात हैं तो यह बेहद खतरनाक हो सकता है। भगवान के प्रवचन के नाम पर यह कृत्य बर्दाश्त नहीं होगा।

गैर सरकारी संस्था ने अदालत में एक लड़की को भी पेश किया। लड़की की तरफ से दावा किया गया कि वह इस धार्मिक विश्वविद्यालय से भागने में सफल रही। आरोप है कि इस लड़की के साथ विश्वविद्यालय में बलात्कार हुआ, लेकिन उसने डर से अपने परिवार के सामने यह बात नहीं बताई। इससे पहले इस धार्मिक विश्वविद्यालय में लड़कियों ने आत्महत्या भी की है, लेकिन तब भी पुलिस ने कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की थी।

केन्द्र-राज्य सरकार को भी नोटिस
हाईकोर्ट ने मामले में केन्द्र व राज्य सरकार को नोटिस किया है। साथ ही कहा है कि इस बाबत दोनों पक्षकार अपने जवाब दें।

रोहिणी के विजय विहार में चल रही है संस्था 
रोहिणी के विजय विहार में चल रहे आध्यात्मिक विश्वविद्यालय को लेकर हाईकोर्ट में यह याचिका दायर की गई है। पीठ ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को कहा है कि वह उपायुक्त स्तर के अधिकारी से जांच कराएं। साथ ही जांच की वीडियोग्राफी भी कराएं। पूरी प्रक्रिया में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के अलावा दिल्ली पुलिस के अधिवक्ता राहुल मेहरा को भी इसमें शामिल होने के निर्देश हैं। जिन तीन लड़कियों को संस्था में बंधक होने की बात है, उसके परिजनों को बुधवार को हाईकोर्ट में पेश करने के आदेश दिए गए हैं। हाईकोर्ट में याचिका फाउंडेशन ऑफ सोशल एमपॉवरमेंट नामक गैर सरकारी संस्था ने दायर की है,जिसमें कहा गया है कि संस्था में बहुत सारी लड़कियों एवं महिलाओं को बंधक बनाकर रखा गया है। परिजनों को भी मिलने की अनुमति नहीं है। यहां एक लड़की से बलात्कार हुआ, लेकिन लड़की की शिकायत पर प्राथमिकी तक दर्ज नहीं की गई है।

Displaying 1 Comments
Have Your Say
  1. Kya Time ah gya hai yaar chheee etna ghatea kaam b hote hai leken koe kuch b nhi kaar rha hai …Ya india ke bright future hai keep continue …proud of you

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

%d bloggers like this: