Published On: Wed, Apr 4th, 2018

यूपी में कम हुई शराब की सप्लाई , बोतलों पर हो रही बार कोडिंग

लखनऊ. यूपी में नई आबकारी नीति के तहत शराब और बियर की दुकानों का आवंटन योगी सरकार द्वारा कर दिया गया है। लेकिन यूपी के सभी शहरों की दुकानों में अभी तक शराब और बियर की सप्लाई नहीं हो पाई है। जिससे सप्लाई न हो पाने के कारण व्यापारियों के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया है। शराब व्यापारियों ने आरोप लगाया हैं कि उत्तर प्रदेश के आबकारी विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के चलते ये नीति पूरी तरह से लागू होती नजर नहीं आ रही है। उधर भाजपा सरकार इस पूरे मामले को व्यवस्था परिवर्तन से जोड़ने का प्रयास कर रही है। भाजपा सरकार का कहना है कि कई चीजों को दुरुस्त किया जा रहा है लिहाजा कोई भी काम हो लेकिन थोड़ी परेशानियां तो आती ही हैं।

बार कोडिंग की वजह से हो रही देरी

भाजपा प्रवक्ता नवीन श्रीवास्तव ने बताया है कि पिछली सपा सरकार में एक बहुत बड़ा सिंडिकेट शराब से लेकर बहुत सारे क्षेत्रों में काबिज था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार आने के बाद सपा सरकार के एकाधिकार को तोड़ा गया है। यूपी के लोगों को जो भी उनकी जरूरत की चीजें ठीक ढंग से मिलने की व्यवस्था की जा रही है। इसलिए इस साल शराब की बोतलों पर बार कोडिंग करने की भी योजना तैयार की गई है। शराब की बोतलों पर बार कोडिंग के काम में देरी होने की वजह से व्यापारियों को समय पर माल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है।

शराब की दुकानें खुलने का समय

उत्तर प्रदेश सरकार की प्राथमिकता ये है कि जो भी उपभोक्ता है, उसे उचित दर पर सही चीजें मिलें। सपा सरकार में शराब की दुकानें रात 11 बजे तक खुल रही थी जिसकी वजह से समाज में बहुत सारी अभद्रताएं और अराजकताएं पैदा हो रही थी। योगी सरकार ने इस बार तय किया है कि अब दोपहर में 12 बजे से रात 10 बजे तक ही दुकानें खोली जाएंगी। लोगों के बीच अराजकताओं का माहौल पैदा न किया जा सके।

लखनऊ में करीब 80 फीसदी दुकानें बंद

आखिरकार किसी तरह से दुकानों का आवंटन तो हो गया है। अब आबकारी विभाग की आधी अधूरी तैयारियों के चलते कारोबारियों को समय से बीयर और शराब उपलब्ध नहीं की जा रही हैं। जिसके चलते राजधानी लखनऊ में ही करीब 80 फीसदी दुकानें बंद पड़ी हुई हैं। जो दुकानें खुली भी है उनमें पूरा माल भी उपलब्ध नहीं हो सका।

अधिकारियों की लापरवाही से भुगतना पड़ रहा भारी नुकसान

लखनऊ के शराब कारोबारी और शराब कारोबारी संघ के महामंत्री कन्हैया लाल ने बताया है कि योगी सरकार की मंशा पर कोई सवाल नहीं है। लेकिन आबकारी विभाग की तरफ से ये घोर लापरवाही की जा रही है। शराब कारोबारी आबकारी विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों को जरूर कटघरे में खड़ा करने की को शिश कर रहे हैं। शराब कारोबारियों का आरोप है कि उत्तर प्रदेश में आबकारी महकमा पूरी तरह से गैर जिम्मेदार ढंग से काम कर रहा है। विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते शराब के कारोबारियों को रोज भारी नुकसान भुगतना पड़ रहा है। अब योगी सरकार की पारदर्शी व्यवस्था पर सवाल खड़े होने लगे हैं।

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.