Published On: Mon, Oct 23rd, 2017

राहुल की ताजपोशी के बीच कांग्रेस के सीनियर-जूनियर नेताओं में वर्चस्व की जंग

कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर एक तरफ राहुल गांधी की ताजपोशी होने जा रही है. राहुल के साथ-साथ कांग्रेस के कई युवा नेता भी अपने अपने राज्यों में अपना वजूद कायम करने में जुटे हैं. राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश सहित दिल्ली तक में कांग्रेस के सीनियर्स और जूनियर्स नेताओं के बीच शह-मात का खेल चल रहा है. राहुल को पार्टी की कमान देने के साथ-साथ पार्टी के वरिष्ठ और युवा नेताओं के साथ सामंजस्य बैठाना भी एक बड़ी चुनौती है.

राजस्थान: गहलोत-पायलट में वर्चस्व की जंग

राजस्थान में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच वर्चस्व की जंग चल रही है. गुजरात प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट राहुल के करीबी माने जाते हैं. राजस्थान में कांग्रेस का चेहरा बनने के लिए दोनों नेता जद्दोजहद कर रहे हैं.

सूत्रों की माने तो कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सचिन पायलट को राजस्थान में आगे बढ़ाना चाहते हैं. इसे देखते हुए गहलोत समर्थक भी सक्रिय हो गए हैं. अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री के तौर पर पेश करने की मांग कर रहे हैं.

कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने साफ संकेत दे दिया है कि राजस्थान विधानसभा चुनाव सचिन पायलट के नेतृत्व में लड़ा जाएगा. सचिन पायलट ने पिछले चार सालों से राजस्थान में मेहनत करके पार्टी को मजबूत करने का काम किया है. गहलोत गुट के लोग अशोक गहलोत के लिए एक और मौका मांग रहे हैं. उनका तर्क है कि गहलोत की जनता में बहुत अपील है और राजस्थान में आम आदमी की तरह उनकी पहचान है.

मध्य प्रदेश: कमलनाथ-दिग्विजय में शह-मात

मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री के तौर पर कांग्रेस ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम को आगे बढ़ा सकती है. सिंधिया के नाम को कमलनाथ आगे बढ़ा रहे हैं. पिछले दिनों कमलनाथ ने सिंधिया के नेतृत्व को स्वीकार करने के लिए सार्वजनिक तौर पर बयान दिया था और कहा था कि CM के तौर पर सिंधिया को पेश किया जाता है तो उन्हें कोई ऐतराज नहीं. सिंधिया राहुल के भी पसंद वाले नेता माने जाते हैं.

दरअसल दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के बीच छत्तीस का आकड़ा है ये बात किसी से छिपी नहीं है. कमलनाथ मध्य प्रदेश में दिग्विजय को सियासी तौर पर ठिकाने लगाना चाहते हैं. इसी मद्देनजर उन्होंने सिंधिया के नाम को आगे बढ़ाया है. वहीं दिग्विजय सिंह इन दिनों मध्य प्रदेश में नर्मदा यात्रा पर हैं. दिग्विजय इसे धार्मिक यात्रा बता रहे हैं, लेकिन राजनीतिक जानकारों के मुताबिक वह सियासी ताकत को नापने के लिए नर्मदा यात्रा पर निकले हैं. दिग्विजय दस साल तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं.

हिमाचल: वीरभद्र-सुक्खू के बीच सियासी तनातनी

हिमाचल का सियासी तापमान काफी गर्म है. राज्य में कांग्रेस का चेहरा वीरभद्र सिंह है. जबकि राहुल गांधी प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू को आगे बढ़ाना चाहते थे. इस बात की जब खबर वीरभद्र सिंह को लगी तो उन्होंने चुनाव लड़ने से मना कर दिया था. ऐसे में कांग्रेस की शीर्ष नेतृत्व ने वीरभद्र सिंह के बगावती तेवर को देखते हुए उन्हें मौजूदा चुनाव के लिए पार्टी का चेहरा घोषित कर दिया है. लेकिन भविष्य में सुक्खू और वीरभद्र के बीच सामंजस्य बैठाना राहुल के लिए चुनौती है.

दिल्ली: माकन-शीला की अदावत जगजाहिर

कांग्रेस दिल्ली की सत्ता से बाहर है, लेकिन पार्टी में गुटबाजी अभी तक बरकरार है. दिल्ली प्रदेश की कमान अजय माकन के हाथों में है. पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित उनके बेटे संदीप दीक्षित की अजय माकन से अदावत किसी से छिपी नहीं है. संदीप दीक्षित ने कई बार ब्लॉग लिखकर माकन के खिलाफ अभियान चला चुके हैं. इतना ही नहीं कांग्रेस का एक बड़ा तबका मानता है कि शीला की दिल्ली में दोबारा से वापसी के जरिए पार्टी फिर से वापस खड़ी हो सकती है. लेकिन माकन शीला की किसी भी रूप में दिल्ली में सक्रिय वापसी को पसंद नहीं करते हैं.

दिल्ली के एक कांग्रेसी नेता ने कहा- माकन के नेतृत्व में दिल्ली नगर निगम चुनाव में पार्टी का क्या हश्र हुआ, ये किसी से छिपा नहीं है. इसके बावजूद पार्टी आलाकमान ने इस पर ध्यान नहीं दिया.

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>