Published On: Wed, May 23rd, 2018

पीएम मोदी अौर पुतिन के बीच वार्ता में सात बार वाजपेयी का जिक्र, जानिए- क्या है अाशय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ सोची में अपनी पहली अनौपचारिक शिखर वार्ता में भारत-रूस संबंधों के नए आयाम को रेखांकित किया।पीएम मोदी ने इस दौरान कम से कम सात बार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र किया। 2001 में तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के साथ अपने पहले रूस दौरे को याद करते हुए मोदी ने कहा कि उनके राजनीतिक कॅरिअर में भी रूस और पुतिन काफी महत्वपूर्ण हैं क्योंकि पुतिन पहले वैश्विक नेता थे, जिनसे उन्होंने गुजरात का मुख्यमंत्री बनने के बाद मुलाकात की थी। मोदी ने कहा कि तब से 18 साल बीत चुके हैं और विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श के लिए मुझे आपसे मुलाकात के कई अवसर मिले और भारत-रूस संबंधों को आगे ले जाने की कोशिश की।

उन्होंने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी और राष्ट्रपति पुतिन द्वारा बोये गए रणनीतिक साझेदारी के बीज अब दोनों देशों के बीच विशेषाधिकार प्राप्त रणनीतिक साझेदारी में तब्दील हो गए हैं।

एससीओ की सदस्यता दिलाने के लिए दिया धन्यवाद

मोदी ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की स्थायी सदस्यता दिलाने में भारत की मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने पर रूस को धन्यवाद दिया। आठ राष्ट्रों के इस संगठन का उद्देश्य सदस्य देशों में सैन्य एवं आर्थिक सहयोग बढ़ाना है। भारत और पाकिस्तान को इस संगठन में पिछले साल शामिल किया गया था। मोदी ने कहा कि हम अंतरराष्ट्रीय उत्तर-दक्षिण परिवहन गलियारा (आईएनएसटीसी) और ब्रिक्स पर साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

चौथी बार राष्ट्रपति बनने पर पुतिन को दी बधाई

मोदी ने पुतिन को चौथी बार रूस का राष्ट्रपति बनने पर बधाई भी दी। उन्होंने कहा कि यह मेरा सौभाग्य रहा कि आपसे फोन पर बातचीत हुई और जल्द ही आपसे मिलकर आपको बधाई देने का मौका मिला। साल 2000 में जब आपने पदभार संभाला था तबसे हमारे संबंध ऐतिहासिक रहे हैं।

पुतिन बोले, संबंधों में नई जान फूंकेगा मोदी का दौरा

प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत करते हुए पुतिन ने कहा कि उनका दौरा द्विपक्षीय संबंधों में नई जान फूंकेगा। उन्होंने कहा कि हमारे रक्षा मंत्रालय बेहद करीबी संपर्क और सहयोग बनाए रखते हैं। यह अपने आप में हमारी बेहद उच्चस्तरीय रणनीतिक साझेदारी को बयान करते हैं। उन्होंने विदेशी नीति के क्षेत्र में दोनों देशों के संयुक्त सहयोग की भी प्रशंसा की। रूसी राष्ट्रपति ने इसके लिए संयुक्त राष्ट्र, ब्रिक्स और एससीओ का खासतौर पर जिक्र किया। पुतिन ने कहा कि पिछले साल आपसी व्यापार में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है और इस साल के पहले कई महीनों में 17 फीसदी से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है।

फीफा व‌र्ल्ड कप आयोजन के लिए मोदी ने दी बधाई

प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन और रूस को फीफा व‌र्ल्ड कप-2018 का मेजबान बनने के लिए भी बधाई दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया फीफा व‌र्ल्ड कप-2018 की उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रही है। आप इसका आयोजन करने जा रहे हैं। आप दुनिया के आकर्षण का केंद्र होंगे और मैं इसके लिए आपको बधाई देता हूं।’

मालूम हो कि पुरुषों के फीफा व‌र्ल्ड कप का आयोजन 14 जून से 15 जुलाई तक रूस के 11 शहरों के 12 स्थलों पर किया जाएगा। इसमें दुनियाभर की 32 टीमें हिस्सा लेंगी और इस दौरान कुल 64 मैच खेले जाएंगे। खास बात यह है कि 32 साल में पहली बार अमेरिकी टीम इसमें हिस्सा नहीं ले सकेगी, क्योंकि वह इस प्रतियोगिता के लिए क्वालीफाई नहीं कर सकी है। फीफा व‌र्ल्ड कप का आयोजन हर चार साल में किया जाता है।

अत्यंत फलदायी रही वार्ता

प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन के साथ वार्ता को अत्यंत फलदायी बताया है। उन्होंने कहा कि इस दौरान भारत-रूस संबंधों के हर पहलू की समीक्षा की गई। इसके अलावा वैश्विक मसलों और बहुध्रुवीय दुनिया की जरूरत को रेखांकित किया गया। दोनों नेताओं ने आतंकवाद और चरमपंथ पर चिंता व्यक्त की। साथ ही उन्होंने नीति आयोग और रूस के आर्थिक विकास मंत्रालय के बीच रणनीतिक आर्थिक वार्ता पर भी सहमति व्यक्त की।

वहीं, रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव के हवाले से सरकारी समाचार एजेंसी तास ने कहा है कि काफी गहन वार्ता हुई।सर्गेई ने कहा कि मैं आश्वस्त हूं कि दोनों नेताओं की अनौपचारिक बातचीत हमारे विकास और रणनीतिक साझेदारी की गाइडलाइंस को और भी परिभाषित करेगी। क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर विभिन्न क्षेत्रों में हमारे विशिष्ट सहयोग पर भी बातचीत हुई है।’

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Loading...