Published On: Mon, May 21st, 2018

दबाव में कुमारस्वामी, बहुमत साबित करने के बाद करेंगे मंत्रिमंडल की घोषणा

बेंगलुरू  : कर्नाटक में जिस अंतरविरोधों के कारण भारतीय जनता पार्टी के नेता बीएस येदियुरप्पा को मात्र दो दिनों के बाद ही मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पर वही अंतरविरोध अब एचडी कुमारस्वामी के सामने बड़ी चुनौती बनकर खड़ी होती दिख रही है। यही कारण है आसन्न खतरों को भांप कुमारस्वामी छांछ को भी फूंक-फूंक कर पी रहे हैं। लिहाजा अब बहुमत साबित करने की चुनौती जेडीएस के एचडी कुमारस्वामी के सामने आ गयी है। यही वजह है कि 23 मई को होने वाले कुमारस्वामी  के शपथग्रहण को लेकर कांग्रेस-जेडीएस एक नए फॉमूर्ले पर विचार कर रही है।

कुमारस्वामी के आने से पहले ही दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के घर मीटिंग चल रही है। इस मीटिंग में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, अशोक गहलोत और वेणुगोपाल भी शामिल हैं। सूत्रों के मुताबिक, कर्नाटक कैबिनेट को लेकर नया फॉमूलज़ बनाया जा रहा है। सूत्रों की सूचना पर भरोसा करें तो बुधवार (23 मई) को कुमारस्वामी अकेले ही मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। ये भी जानकारी है कि उनके साथ कुछ महत्वपूर्ण मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है लेकिन पूरे मंत्रिमंडल का गठन बहुमत साबित होने के बाद ही किया जाएगा।

दरअसल, ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि कैबिनेट में जगह न मिल पाने से कुछ विधायकों की नाराजगी सामने आ सकती है। ऐसे में कांग्रेस और जेडीएस कोई भी रिस्क नहीं उठाना चाहती है। इसलिए पहले दोनों पार्टियां सदन के पटल पर कुमारस्वामी सरकार का फ्लोर टेस्ट पास कराना चाहती हैं और उसके बाद बाकी मंत्रियों को शपथ दिलाने की योजना है। बताया जा रहा है कि दोनों ही गठबंधन दलों में इस फॉमूर्ले पर सहमति बन रही है।

कैबिनेट में जगह मिलने से नाराजगी सामने के अलावा कुछ और कारण भी कांग्रेस और जेडीएस के शीर्ष नेतृत्व की चिंता का सबब बने हैं। गठबंधन के तहत सीएम की कुर्सी जेडीएस के कुमारस्वामी को मिल रही है, जबकि कांग्रेस के खाते में डिप्टी सीएम की पोस्ट आ रही है लेकिन इससे आगे बढ़कर अब लिंगायत समुदाय से भी एक डिप्टी सीएम की मांग उठने लगी है। लिंगायत समुदाय के संगठन ऑल इंडिया वीरशैव महासभा के नेता तिप्पाना, खुला खत लिखकर कांग्रेस विधायक शमनूर शिवशंकरप्पा को उपमुख्यमंत्री बनाने की मांग कर चुके हैं। ऐसे में गठबंधन के लिए बड़ी समस्या खड़ी हो सकती है। यही कारण है कि कुमारस्वामी और कांग्रेस बेहद सतर्क होकर काम कर रहे हैं।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

Loading...