Published On: Wed, Jan 2nd, 2019

हमशक्ल ने किया अपराध और 17 साल तक जेल में रहा बेगुनाह, अब मिलेगा 8 करोड़ का मुआवजा

कंसास : अमेरिका के कंसास में एक निर्दोष व्यक्ति रिचर्ड एंथनी जोंस को अपने हमशक्ल द्वारा किए गए अपराध का खामियाजा 17 साल तक भुगतना पड़ा। जी हां, जोंस को अपने हमशक्ल के जुर्म के चलते 17 साल जेल में बिताने पड़े। इतने सालों के बाद अब असल क्रिमिनल रिकी ली अमोस ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है और कोर्ट ने जोंस के निर्दोष करार दिया है। इसके साथ ही उसे मुआवजे के तौर पर 1.1 मिलियन डॉलर यानि करीब 8 करोड़ रुपए भी मिलेंगे।

इस मामले में हुई चूक को स्वीकार करते हुए कंसास के अटॉर्नी जनरल डेरेक श्मिट ने कहा कि हमसे असल अपराधी को पकड़ने में गलती हुई, लेकिन अब सही क्रिमिनल ने अपराध कबूल लिया है। अब निर्दोष जोंस को वो सारे फायदे मिलेंगे जिसके वे हकदार हैं। जोंस ने खुद के निर्दोष साबित होने पर 1.1 मिलियन डॉलर के मुआवजे की अपील की थी।

बताया जा रहा है कि 1999 में एक व्यक्ति ने रोलैंड पार्क स्थित वॉलमार्ट की पार्किंग से एक महिला का पर्स छीनने की कोशिश की। महिला से उसकी झड़प हो गई। इस छीना-झपटी में पर्स तो बच गया, लेकिन चोर ने महिला का सेलफोन चुरा लिया। इसके बाद चश्मदीदों ने पुलिस को बताया कि अपराधी मैक्सिकन या अफ्रीकन-अमेरिकन हो सकता है। लोगों ने उसका नाम रिकी बताया। इसके बाद एक चश्मदीद ने लुटेरे की कार पर लिखा लाइसेंस नंबर पुलिस को बताया।

इसके बाद जब जांच शुरू हुई तो एक ड्राइवर ने जोंस को रिकी के रूप में पहचाना। जबकि सच यह था कि लूट की कोशिश के दौरान जोंस अपनी गर्लफ्रेंड की जन्मदिन पार्टी में थे। जांच के दौरान जोंस का क्रिमिनल रिकॉर्ड पाया गया, लिहाजा जज ने उन्हें 19 साल की सजा सुना दी। इसके बाद जोंस ने कंसास यूनिवर्सिटी के प्रोजेक्ट ऑफ इनोसेंस में अप्लाई किया। इस प्रोजेक्ट के जरिए लोगों को इंसाफ दिलाया जाता है। प्रोजेक्ट टीम ने असल अपराधी और जोंस के हमशक्ल रिकी ली अमोस को खोज निकाला।

इसके बाद टीम ने रिकी और उससे जुड़े दस्तावेज कोर्ट में पेश किए। जिन लोगों ने जोंस के खिलाफ गवाही दी थी, उन्होंने भी कहा कि वे पक्का नहीं कह सकते कि लूट में जोंस ही शामिल था। इसके बाद जज ने जून 2017 में जोंस की रिहाई का आदेश दे दिया। कोर्ट ने बीते हफ्ते मुआवजे की रकम दिए जाने के आदेश के अलावा जोंस को पूरी तरह निर्दोष साबित होने का सर्टिफिकेट भी जारी किया।

Loading...