राफेल से ध्यान हटाने के लिये भाजपा, कांग्रेस को घसीट रही अगस्ता मामले में: सुक्खू

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं विधायक सुखविंदर सिंह सूक्खू ने केंद्र की भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) नीत सरकार पर राफेल मामले से ध्यान हटाने के लिये अगस्ता वेस्टलैंड हैलीकॉप्टर खरीद मामले में कांग्रेस को बेवजय घसीटने का आरोप लगाया है।

सुक्खू ने आज यहां जारी एक बयान में कहा कि केंद्र की कांग्रेस नीत पिछली सरकार ने ही 2013 में अगस्ता वेस्टलैंड हैलीकॉप्टर खरीद मामले में कार्रवाई शुरू करते हुये इसे न केवल इस कम्पनी को ब्लैकलिस्ट किया था बल्कि जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो को सौंपी थी। उन्होंने आरोप लगाया कि इस मामले में कांग्रेस के आला नेताओं के नाम उछाल कर भाजपा राजनीतिक लाभ लेने की असफल कोशिश कर रही है जबकि भाजपा ने 2014 में सत्ता संभालने के बाद अगस्ता वेस्टलैंड को ब्लैकलिस्ट की श्रेणी से हटाया और फिर से टेंडर प्रक्रिया में शामिल किया। उन्होंने आरोप लगाया कि इससे साफ हो जाता है कि पूरी खरीद में सीधे-सीधे प्रधानमंत्री का कथित तौर पर हस्तक्षेप है। ऐसे में कांग्रेस पर कीचड़ उछालने की बजाए जांच तो यह होनी चाहिए कि केंद्र सरकार का कम्पनी को ब्लैकलिस्ट की श्रेणी से हटाकर दोबारा टेंडर प्रक्रिया में शामिल करने के पीछे क्या उद्देश्य था। इसकी अगर निष्पक्ष उच्च स्तरीय जांच हो तो सारा कच्चा चिट्ठा खुलकर सामने आ जाएगा।

उन्होंने केंद्र सरकार पर इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय का दुरुपयोग करने तथा किसी भी तरह कांग्रेस नेताओं को फंसाने का आरोप लगाया। उन्होने दावा किया कि अगस्ता वेस्टलैंड हैलीकॉप्टर खरीद में दलाल की भूमिका निभाने वाले मिशेल ने अब तक की जांच में किसी कांग्रेस नेता का नाम नहीं लिया है।

सूक्खू ने कहा कि यह सारा ड्रामा राफेल खरीद घोटाले से ध्यान भटकाने के लिए रचा गया। उन्होंने दावा किया कि 570 करोड़ रूपये का लड़ाकू विमान 1600 करोड़ रूपये में खरीदने में कथित तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम आ रहा था। क्योंकि फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति से मोदी की मुलाकात के बाद ही अचानक जहाज की कीमत तीन गुणा हो गई थी। मोदी को बचाने के लिए पूरी भाजपा, कांग्रेस को बदनाम करने के लिए मैदान में डट गई है।

Loading...