Published On: Sat, Nov 10th, 2018

मायके में सास को बहू ने किया कैद, बेटे ने महिला आयोग को बताया तो बची जान

दिल्ली महिला आयोग ने एक 95 वर्षीय महिला को बेटे के ससुराल वालों की कैद से आजाद कराया है. दरअसल, दिल्ली महिला आयोग को महिला हेल्पलाइन नंबर 181 पर एक व्यक्ति ने कॉल करके शिकायत दर्ज कराई कि उसकी 95 वर्षीय मां को उसकी पत्नी व ससुराल वालों द्वारा कैद किया गया है और उसके साथ मारपीट की जा रही रही है. उन्होंने अनुरोध किया कि उनकी मां तुरंत बचाई जाए और उनकी पत्नी के खिलाफ कार्रवाई की जाए.

सूचना मिलने के बाद दिल्ली महिला आयोग की टीम शिकायतकर्ता के पास पहुंची. उन्होंने टीम को बताया कि उनकी मां 95 वर्ष की हैं और पूरी तरह से बिस्तर पर हैं. लगभग 3 महीने से वह अपनी मां को देख नहीं पा रहा है. उन्होंने कहा कि शादी करने के बाद से ही उनकी पत्नी के साथ वैवाहिक विवाद चल रहा है.

शिकायतकर्ता ने बताया कि जब भी उन्होंने अपनी मां से मिलने की कोशिश की, तब-तब उसे स्थानीय पुलिस से मदद लेने के लिए मजबूर होना पड़ा क्योंकि उसकी पत्नी उसे घर में प्रवेश करने नहीं देती है. उन्होंने कहा कि मां से मिलने की उम्मीद की किरण तब दिखी जब उन्होंने एक समाचार में पढ़ा कि डीसीडब्ल्यू ने 50 वर्षीय एक महिला को बचाया था, जिसको उसके भाई ने 2 साल तक घर में कैद कर रखा था.

DCW की टीम ने याचिकाकर्ता की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए उस स्थान पर गई जहां पर बुजुर्ग महिला को रखा गया था. उनकी पत्नी ने शुरुआत में डीसीडब्ल्यू टीम को घर में प्रवेश नहीं करने दिया. हालांकि, दिल्ली महिला आयोग की टीम द्वारा समझाने के बाद इस शर्त पर घर में प्रवेश की अनुमति दी कि उनके पति एक लिखित बयान देंगे कि घर से अपनी मां को लेने के बाद वह फिर कभी घर वापस नहीं आएगा. शिकायतकर्ता ने शर्तों पर सहमति व्यक्त की और कथन को लिखित में दिया.

जब DCW टीम और पुलिस ने कमरे में प्रवेश किया जहां 95 वर्षीय बुजुर्ग महिला को रखा गया था, वहां पर रेस्क्यू करवाई गई महिला की हालत दयनीय मिली. वह केवल कपड़े के एक पतले टुकड़े से ढकी हुई थी और उसे बिस्तर के पास रखी एक बाल्टी में खुद को राहत देना पड़ता था. बुजुर्ग औरत बहुत बीमार लग रही थी इसलिए DCW टीम ने तुरंत एम्बुलेंस बुलवाई जिसके बाद बूढ़ी औरत को अस्पताल ले जाया गया.

डॉक्टर ने बताया कि उसे गंभीर संक्रमण है जिसका इलाज अस्पताल द्वारा किया जा रहा है. 95 वर्षीय महिला अभी भी अस्पताल में भर्ती है. उनका बेटा और पोती उनकी देखभाल कर रही है. दिल्ली महिला आयोग अध्यक्ष स्वाति जयहिंद का कहना है, “वह बहुत दुखी है कि 95 वर्षीय महिला को ऐसी खराब परिस्थितियों में रखा गया था. आयोग उनके पुनर्वास पर काम करेगा. मैं दिल्ली की जनता से अपील करती हूं कि अगर वे किसी भी महिला को बीमार देखें तो तुरंत आयोग हेल्पलाइन 181 पर संपर्क करें. दिल्ली महिला आयोग की सदस्य वंदना सिंह ने बुजुर्ग महिला का हाल चाल जानने के लिए उनसे आज मुलाकात भी की.

Loading...