Published On: Mon, Mar 26th, 2018

बंगाल: रामनवमी पर दो गुटों में झड़प, 1 की मौत, 5 पुलिसकर्मी घायल

 

पश्चिम बंगाल के पुरूलिया जिले में रामनवमी की एक रैली को लेकर दो गुटों में झड़प हो गई. इस घटना में 1 व्यक्ति की मौत और पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए.

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी, कानून और व्यवस्था) अनुज शर्मा ने बताया कि जिले के भुरसा पुलिस थाना क्षेत्र में रामनवमी का जुलूस निकाले जाने को लेकर दो गुटों में हिंसक टकराव हो गया.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक पुरूलिया के भुरसा गांव के शेख शाहजहां (55 साल) पर लोगों ने तब हमला कर दिया जब वे एक तालाब किनारे शौच कर रहे थे. एडीजी (कानून और व्यवस्था) अर्जुन शर्मा ने बताया कि चार पुलिसकर्मी जिसमें एक डीएसपी (मुख्यालय) सुब्रत कुमार पॉल भी शामिल हैं, घायल हुए हैं. पॉल लोगों को समझा रहे थे, इसी दौरान उनपर हमला कर दिया गया. पॉल और उनका सुरक्षा गार्ड दोनों गंभीर हालत में कोलकाता इलाज के लिए लाए गए हैं.

‘हिंदुओं को एकजुट’ करने के लिए रैली

घटना में शामिल कुछ लोगों को गिरफ्तार किया गया है. सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी बीजेपी ने रामनवमी मनाने के लिए जुलूसों का आयोजन किया था. भगवा दल ने इन रैलियों को बंगाल के ‘हिंदुओं को एकजुट’ करने की दिशा में पहला कदम करार दिया था. कई जगहों पर रामनवमी के मौके पर हथियार लेकर जुलूस निकाले गए.

वेस्ट मिदनापुर जिले के खड़गपुर में तलवारें और गदा के साथ निकाले गए एक जुलूस में बीजेपी की राज्य इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष देखे गए. घोष ने बताया कि रामनवमी के दिन अस्त्र पूजा करने की बरसों पुरानी हिंदू परंपरा है. एडीजी अनुज शर्मा ने बताया, ‘पुलिस के इजाजत न देने के बावजूद कई जगहों पर हथियार ले कर जुलूस निकाले गए. इस पर पुलिस कानूनी कार्रवाई करेगी.’

पुरूलिया जिले के तृणमूल नेताओं ने आरोप लगाया कि विश्व हिंदू परिषद ने रामनवमी पर हथियारों के साथ जुलूस निकाला जिसमें बच्चे हथियार लिए नजर आए. हालांकि वीएचपी की राज्य इकाई के अध्यक्ष सचिंद्नानाथ सिंगा ने इन आरोपों को गलत बताया.  पश्चिम बंगाल बाल अधिकार सुरक्षा आयोग की अध्यक्ष अनन्या चटर्जी चर्कवर्ती ने कहा कि वह इस घटना से वाकिफ हैं और इस पर कार्रवाई करेंगी.

 

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.