Published On: Thu, Mar 29th, 2018

फिर आया जावेद अख्तर को गुस्सा, कहा-कट्टरपंथियों इंडस्ट्री को दूषित करने की कोशिश मत करो

 

लेखक और गीतकार जावेद अख्तर ने आमिर खान के जरिए ‘महाभारत’ में काम किए जाने पर उठने वाले सवाल पर एक बार फिर से अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा है कि, ‘भारतीय फिल्म इंडस्ट्री धर्मनिरपेक्षता का गढ़ है और यहां सांप्रदायिक पूर्वाग्रह या पक्षपात की कोई गुंजाईश ही नहीं है.’

धर्मनिरपेक्षता के सवाल पर किया कटाक्ष

गीतकार जावेद अख्तर ने सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के जरिए आमिर खान के ‘महाभारत’ में काम करने को लेकर सवाल उठाए थे. जिस पर जावेद अख्तर ने कहा कि, ‘मैं साल 1965 में फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ा था और मेरी तनख्वाह 50 रुपए महीना थी. मैंने इन 53 सालों में किसी भी क्षण हमारी इंटस्ट्री में किसी तरह के जातिवाद और पक्षपात का अनुभव नहीं किया. ये फिल्म इंडस्ट्री धर्मनिरपेक्षता का गढ़ है. कट्टरपंथियों, इसे दूषित मत करने की कोशिश करो.’

Javed Akhtar

@Javedakhtarjadu

I had joined film industry in 1965 on a salary of 50 rupees per month. In these 53 years not for a second I have experienced or even seen any communal bias in our industry . This Film industry is the citadel of secularism . Bigots , don’t try to pollute it .

50 रुपए महीने के वेतन पर उठाया सवाल

एक ट्विटर यूजर ने जावेद अख्तर के 50 रुपए महीने वेतन और धर्मनिरपेक्षता की टिप्पणी पर सवाल उठाया तो जावेद अख्तर ने कहा कि, ‘मैं ये बताना चाहता हूं कि जब मैं आर्थिक और सामाजिक रुप से बहुत ही कमजोर स्थिति में था, तब भी मैंने कम से कम किसी भी सांप्रदायिक आधार पर किसी तरह का भी भेद-भाव महसूस नहीं किया.’

Javed Akhtar

@Javedakhtarjadu

Mr Francois Gautier , would you tell us what is your deal with the PR agencies Like 20 20 India and Adelman India . Are they paying you well to spread negativity against the most ambitious fin project of India “Mahabharta” planned by Mr Mukesh Ambani and Aamir khan

About the Author

Leave a comment

You must be Logged in to post comment.