Published On: Tue, Jan 23rd, 2018

घर में आता हर एक शख्स महिला के साथ करता था अपनी हवस पूरी, पीड़िता ने बताई कहानी

यमुनानगर। यमुनानगर के एक मकान में कुछ युवकों ने एक युवती को बंधक बनाकर रखा था। जहां से छूटकर भागी युवती ने कई तरह के चौंकाने वाले खुलासे भी किये हैं।

उस युवती का कहना हैं की, कुछ युवको ने उसे उस घर में कई समय से बंधक बनाकर रखा था। जहां हर दिन वह लोग उसे अपनी हवस का शिकार बनाते थे।

अगर वह उन लोगो का विरोध करती तो वह लोग उसे मारते भी थे। जिसके बात वहां के लोकल चाइल्ड प्रोटेक्शन अफसर ने उन आरोपियों के विरुद्ध पुलिस में मामला भी दर्ज करवाया हैं।

क्या हैं पूरा मामला 
यमुनानगर की पुलिस ने इस पुरे मामले में यमुनानगर में रहने वाली ममता और उनके पति राजेश और उनके भाई पर रेप और मारपीट का मामला दर्ज किया हैं। साथ ही सभी आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया गया हैं।

साथ ही मेडिकल रिपोर्ट में कहा गया हैं की, पीड़ित युवती पर कई बार रेप किया गया हैं। साथ ही पीड़ित महिला का कहना हैं की, उसे करीब 6 महीनो से उस घर में बंधक बनाकर रखा गया था।

हर दिन कोई नया आदमी आकर उस पर रेप करता था। आगे खुलासा करते हुए उस पीड़िता ने कहा की, उससे घर का सारा काम भी करवाया जाता था। साथ ही उसे समय पर अच्छा खाना भी नहीं दिया जाता था।

मज़बूरी में फिर पीड़ित महिला को न खाने लायक खाना खाना पड़ता था। जब की दूसरी और चाइल्ड प्रोटेक्शन टीम का कहना हैं की, यह मामला मानव तस्करी का हैं।

जब की पुलिस का कहना हैं की, इस पुरे मामले में मकान के मालिक ममता और उनके पति राजेश को सलाखों के पीछे धकेल दिया गया हैं।


पुलिस का नाम भी आया मामले में 
आपको बता दे की, इस पुरे मामले में एक पुलिस कर्मचारी भी शामिल होने की आशंका जताई गई हैं। जब चाइल्ड प्रोटेक्शन टीम ने जिस घर रेप डाली थी। तब वहां से ममता को हिरासत में लिया गया था।

तभी टीम को ममता ने बताया की, इस युवती को एक पुलिस वाला ही यहां लाया था। जब की, पुलिस का कहना हैं की, वह युवती से उसे स्टेसन से मिली थी।

तब वहां हाजिर ममता ने युवती को अपने साथ ले जाने की इच्छा जताई थी। तो उन्हों ने उस युवतो को ममता और उनके पति को सौंप दी थी।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

%d bloggers like this: